Friday, September 20, 2019 12:38 AM

दादा-पोती दबे, नाले में बही महिला

कभी न भूलने वाले जख्म दे गई बेरहम बारिश, दो दिन जिला पर पड़े भारी

चंबा - चंबा जिला में बरसात की बेरहम बारिश से बरपे कहर ने दो दिन के भीतर ही साढ़े सोलह करोड़ रुपए की चपत लगा दी है। इसी बीच बारिश के बाद बिगड़े हालातों के चलते डीसी चंबा ने सोमवार को शैक्षणिक संस्थानों में अवकाश घोषित कर दिया है। रविवार को बारिश के कारण हुए भू-स्खलन से मैहला की बंदला पंचायत में दादा-पोती की दबने से मौत हो गई। भरमौर की सिंयूर पंचायत में एक महिला की नाले में बहने से मौत हो गई। बारिश के चलते रविवार को जिला के करीब 141 मार्गों पर वाहनों के पहिए थमे रहे। हालांकि देर शाम तक पीडब्ल्यूडी ने 85 मार्ग दोबारा वाहनों की आवाजाही के लिए खोलने में सफलता भी हासिल कर ली। भू-स्खलन से बंद मार्गों पर यातायात बहाली को लेबर के अलावा 90 जेसीबी मशीनें लगाई हैं। जिला के शेष बंद मार्गों पर यातायात बहाली को लेकर काम जारी था। इसी बीच भरमौर मार्ग पर बग्गा के समीप रावी नदी के तेज बहाव की चपेट में आने से काफी हिस्सा बहने से सैकड़ों मणिमहेश श्रद्धालु बीच राह में फंस गए हैं। चंबा जिला में शुक्रवार देर रात से आरंभ हुआ बारिश का कहर रविवार सुबह तक जारी रहा। बारिश के लगातार जारी रहने से शनिवार को पीडब्ल्यूडी की सारी मेहनत पर दोबारा से पानी फिरने से स्थिति यथावत हो गई। रविवार सुबह बारिश का दौर थमते ही एनएच व पीडब्ल्यूडी ने भू-स्खलन से बंद मार्गों पर यातायात बहाली के पूरी तरह ताकत झोंक दी। देर शाम तक अधिकतर बंद मार्ग दोबारा से खोल दिए गए। बारिश के कारण चंबा जिला की तमाम नदियां व नाले उफान पर आ गए हैं। फिलहाल बारिश का दौर थमना जिलावासियों के लिए एक बड़ी राहत है।

30 घंटे बाद खुला पठानकोट एनएच

रविवार को करीब तीस घंटे बाद पठानकोट एनएच मार्ग खुलना काफी राहत की बात रहा। पठानकोट पर यातायात बहाली के साथ ही जिला का संपर्क शेष विश्व से दोबारा जुड़ गया है। इसी बीच न्यू बस अड्डे के समीप एनएच का एक बड़ा हिस्से का रावी नदी के चपेट में आने से नामोनिशान मिट गया। पठानकोट एनएच के इस हिस्से पर यातायात बहाल करने को लेकर बस अड्डा परिसर की दीवार को तोड़कर वैकल्पिक मार्ग बनाने का काम भी आरंभ कर दिया गया है।