Monday, December 16, 2019 06:01 AM

दिल्ली में रविदास मंदिर तोड़ने से उबला चंबा

रविदास सभा सहित अन्य समितियों ने जताया रोष, राष्ट्रपति एवं पीएम को ज्ञापन भेजकर मंदिर दोबारा बनाने की उठाई मांग

चंबा -विश्व की रविदास संगत के लिए आस्था का प्रतीक तुगलकाबाद दिल्ली स्थित छह सौ वर्ष पुराने मंदिर को दिल्ली सरकार की ओर से तोड़े जाने पर रविदास सभा चंबा सहित वाल्मीकि, परिगणित जाति, अंबेडकर मिशन सोसायटी, भीमा बाई महिला मंडल सहित अन्य समितियों ने गहरा दुख व्यक्त किया है। मंगलवार को उपरोक्त समिति एवं सभा सदस्यों ने एसी टू डीसी चंबा के माध्यम से राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद एवं प्रधानमंत्री नरेेंद्र मोदी को ज्ञापन भेज कर मंदिर के पुनर्निर्माण की मांग उठाई है। उपरोक्त विभिन्न संगठनों एवं सभाआंे के सदस्यों का कहना है कि संत शिरोमणि गुरु रविदास जी महाराज ने अपने समय में तीन दिनों तक इसी स्थान पर अपना आसन लगाकर सत्संग किया था। उन्होंने कहा कि दस अगस्त को दिल्ली विकास प्राधिकरण (दिल्ली सरकार)की ओर से छह सौ वर्ष पुराने रविदास मंदिर न्यायालय के आदेशानुसार भारी पुलिस बल तैनात कर इसे तोड़ दिया। जबकि उक्त स्थान पर प्राधिकरण भवनांे का निर्माण करना चाहती है, जो अनुचित है। उन्होंने राष्ट्रपति एवं प्रधनमंत्री से उक्त स्थान पर भवन बनाने की बजाय मंदिर का फिर से निर्माण करने की  गुहार लगाई है, ताकि विश्व रविदास संगत सहित समाज के अन्य सदस्यों का सरकार एवं कोर्ट पर भरोसा कायम रहे।

मौके पर ये रहे मौजूद

इस मौके पर रविदास सभा चंबा के जितेश्वर सूर्य, अविनाश, अनूप राही, मैहला के रमेश, पार्षद जितेेंद्र सूर्या भीमा बाई महिला मंडल चंबा की अमृता, कुलदीप, अश्वनी, इंद्रजीत सहित विभिन्न सभाओं एवं संस्थाओं के सदस्य मौजूद रहे।