Friday, October 18, 2019 05:25 PM

‘दिव्य हिमाचल’ के इंजीनियर्स-डे पर बनेगी डाक्यूमेंटरी

प्रदेश के अग्रणी मीडिया ग्रुप की मुहिम को जयराम ठाकुर सरकार का सलाम, एक लड़ी में पिरोए जाएंगे एक्सपर्ट्स और अफसरों के सुझाव, मुख्यमंत्री व चारों मंत्रियों के निर्देश भी होंगे शामिल

शिमला -प्रदेश के अग्रणी मीडिया गु्रप दिव्य हिमाचल के इंजीनियर डे पर आयोजित मेगा इवेंट की डाक्यूमेंट्री बनेगी। राज्य सरकार के सभी इंजीनियरज को एकजुट करने वाले इस मेगा इवेंट में एक्सपर्ट्स तथा अफसरों के सुझावांे को एक लड़ी मंे पिरोया जाएगा। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व उनके चारांे मंत्रियांे के दिशा निर्देशांे को इस डाक्यूमेंट्री मंे शामिल किया जाएगा। इसके अलावा आपदाओं से निपट रहे इंजीनियरज को आने वाली दिक्कतों को भी इस डाक्यूमेंट्री का हिस्सा बनाया जाएगा। दिव्य हिमाचल मीडिया गु्रप अपनी इस डाक्यूमेंट्री को जल्द ही रिलीज करेगी। जाहिर है कि इंजीनियर डे पर दिव्य हिमाचल मीडिया गु्रप द्वारा किए गए आयोजन ने प्रदेश के इतिहास मंे नया आयाम जोड़ दिया है। शिमला के पीटरहॉफ मंे आयोजित इस इवेंट की चर्चा किन्नौर से भरमौर तक सभी अभियंताआंे को सार्थक कड़ी मंे पिरोने में सफल रही। शिमला ही नहीं पूरे प्रदेश में है। सरकारी अदारे मंे जहां इसकी चर्चा है वहीं निजी क्षेत्र में कॉफी टेबल बुक को लेकर इस इवेंट की भूरि-भूरि प्रशंसा कर रहा है। यहां हुए आयोजन मंे इंजीनियरांे ने जहां भारत रत्न गुंडप्पा विश्वेश्वरैया को याद किया वहीं निर्माण की नई पेचिदगी के बारे मंे जाना। यहां सीखने को बहुत कुछ था जिसका पूरा लाभ प्रदेश भर के अभियंताआंे ने उठाया। इतना ही नहीं सरकार ने इसमंे खुद बहुत कुछ जाना और इसपर अमल करने की नसीहत सरकारी मशीनरी को भी दी। यहां विशेषज्ञों ने हिमाचल की परिस्थितियांे के मुताबिक किस तरह का निर्माण होना चाहिए और भूकंप की दृष्टि से हिमाचल मंे क्या कुछ किया जाना चाहिए इसके बारे मंे सीखा। विशेषज्ञों ने बताया कि हिमाचल किस तरह से तब गंभीर संकट मंे आ सकता है जब यहां कोई बड़ा भूकंप आए। भुज मंे आए भूकंप की तस्वीर यहां दिखाई गई और इंजीनियरांे को उससे सबक लेकर निर्माण मंे आवश्यक बातांे का ध्यान रखने को कहा गया। न केवल सरकारी क्षेत्र बल्कि निजी क्षेत्र मंे भी निर्माण मंे गुणवत्ता का ध्यान रखने की बात कही गई। साथ ही सरकार को भी यह ताकीद की गई कि उसे किस तरह से निजी क्षेत्र के निर्माण पर निगरानी के लिए प्रयास करने चाहिए। विशेषज्ञों ने यहां प्राकृतिक आपदाओं से निपटने पर बखूबी चर्चा की और रिजर्वायर से होने वाले नुकसान के बारे मंे विस्तार से बताया। बरसात के दिनांे मंे यहां पर नदियां उफान पर रहती हैं जिनसे खासा नुकसान होता है। इस नुकसान से कैसे बचा जा सकता है इसपर भी पूरा मंथन हुआ। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने यहां सीध व सपाट बात कही और कहा कि प्रदेश के विकास मंे अभियंताआंे का जो महत्वपूर्ण रोल है उसे सरकार भी सलाम करती है लेकिन आधुनिक हिमाचल के निर्माण मंे जिन बातांे की जरूरत है उनपर अभियंताआंे को मंथन कर काम करना चाहिए जिसमंे सरकार भी पूरा साथ देगी। इस इवेंट मंे इंजीनियरांे ने रंगारंग कार्यक्रम का भी पूरा लुत्फ उठाया और पूरे प्रदेश मंे यह इवेंट चर्चा मंे बना हुआ है।