Thursday, November 14, 2019 02:22 PM

दुधारू पशुओं का बनेगा डेटा बेस

पालमपुर, बैजनाथ और जयसिंहपुर में चिन्हित करने की प्रक्रिया शुरू

पालमपुर -क्षेत्र के दुधारू गाय व भैंस को चिन्हित करने के लिए टैग लगाने का काम शुरू हो गया है। यह कार्य केंद्र व प्रदेश सरकार की महत्त्वाकांक्षी योजना पशु उत्पादकता और स्वास्थ्य के लिए सूचना नेटवर्क इनाफ के अंर्तगत किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार इस योजना के तहत पालमपुर स्थित सहायक निदेशक कैटल प्रोडेक्शन के माध्यम से अब तक करीब छह सौ पशुओं को विषेश प्रकार के टैग लगाए जा चुके हैं। इस योजना के अंर्तगत सभी दुधारू गाय व भैंस का पंजीकरण अनिवार्य होगा। दुधारू पशुओं को 12 डिजिट के यूनीक पहचान नंबर यूआईडी के साथ प्लास्टिक टैग विधि से पहचान प्रदान की जा रही है। इसके साथ ही चिन्हित पशुओं का डाटा इनाफ ऐप के डेटाबेस पर अपलोड किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार इस ऐप के जरिए पशुओं के कृत्रिम गर्भाधान का भी पूरा ब्यौरा रखा जाएगा, जिससे पशुओं की नस्ल सुधारने में मदद मिलेगी। इसकी मॉनिटरिंग कहीं से भी की जा सकेगी। सहायक निदेषक कैटल प्रोडेक्शन डा. विरेंद्र पटयाल और वरिष्ठ पशु चिकित्सा अधिकारी डा. संजीव कटोच ने बताया कि इस कार्य के लिए विभाग के सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को ट्रेनिंग व आवश्यक सामग्री प्रदान कर दी गई है। पालमपुर कार्यालय के तहत पालमपुर, बैजनाथ और जयसिंहपुर क्षेत्रों में टैगिंग की प्रक्रिया शुरू की गई है। अब तक छह सौ पशुओं की टैगिंग की गई है और यह जानकारी ऐप पर डाली जा रही है।