Tuesday, March 31, 2020 07:32 PM

दो दिन उड़ान भरने के बाद फिर लगी ब्रेक

केलांग  - प्रदेश सरकार द्वारा लाहुल-स्पीति के लिए शुरू की गई हेलिकाप्टर सेवा भी कबायलियों की दिक्कतें दूर नहीं कर पाई है। क्रिसमस पर सरकार द्वारा जनजातीय जिला के लोगों को उड़ानों के रूप में दिया गया तोफा जहां अब कबायलियों के लिए सिरदर्द बन गया है,वहीं हेलिकाप्टर की उड़ाने नियमित तौर पर न होने से लाहुल-स्पीति के लोग काफी परेशान है। लोगों का कहना है कि बीते 25 दिसंबर से लाहुल-स्पीति के लिए शुरू की गई हेलिकाप्टर सेव महज दो दिन ही चल पाई।  उड़ान समिति के पास जहां उड़ानों के लिए आवेदन करने वालों का आंकड़ा दिनप्रतिदिन बढ़ता जा रहा है, वहीं जनजातीय जिला के लिए होने वाली उड़ानों का जीएडी ने अभी तक नया शेड्यूल जारी नहीं किया है। रोहतांग दर्रे के बंद होने के बाद दिक्कतें झेल रहे लाहुल-स्पीति के लोगों के पास जहां घाटी से बाहर जाने व घाटी में आने के लिए प्रदेश सरकार को उड़न खटोला एक मात्र साधन है, वहीं हेलिकाप्टर की उड़ाने नियमित तौर पर न होने से लाहुल-स्पीति के लोग दिक्कतें झेलने को मजबूर हैं। लोगों का कहना है कि प्रदेश सरकार को लाहुल-स्पीति के लिए नियमित उड़ाने करवानी चाहिए। उनका कहना है कि 25 दिसंबर से अब तक लाहुल के लिए मात्र दो दिन ही हेलिकाप्टर ने जनजातीय जिला के लिए उड़ान भरी है। लोगों का कहना है कि अटल टनल से जहां लोगों की आवाजाही पर बीआरओ ने रोक लगाई है, वहीं उड़ानों के नियमित तौर पर न होने से उनकी दिक्कतें और बढ़ गई है। उधर, लाहुल-स्पीति के पूर्व विधायक रवि ठाकुर का कहना है कि उन्होने मुख्यमंत्री को लाहुल-स्पीति के लिए हेलिकाप्टर की नियमित उड़ाने करवाने को लेकर जहां पत्र लिखा है, वहीं उन्होंने सरकार से यह आग्रह भी किया है कि अगर हवाई उड़ानों को नियमित नहीं करवाया जा सकता तो लाहुल-स्पीति के लोगों की अटल टनल से आवाजाही करवाई जाए, ताकि लोगों की दिक्कतें कुछ हद तक कम हो सके। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कार्यकाल में जहां लाहुल-स्पीति के लिए सर्दियों में हेलिकाप्टर की नियमित उड़ाने करवाई जाती थी। उन्होंने कहा कि अगर लाहुल-स्पीति के लिए हेलिकाप्टर की नियमित उड़ाने शुरू नहीं की गई तो लाहुल-स्पीति कांग्रेस सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने को मजबूर होगी। उन्होंने कहा कि घाटी के लोग जहां इन दिनों सरकार के हेलिकाप्टर को बेसवरी से इंतजार कर रहे हैं, वहीं उड़ान समिति के पास उड़ानों का नया शेड्यूल ही नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार लाहुल-स्पीति के लिए हेलिकाप्टर की नियमित उड़ाने नहीं करवा सकती तो लोगों से आवेदन उड़ान समिति के पास क्यों करवाए जा रहे हैं। यहां बतादें कि लाहुल-स्पीति के 11 हेलपैड्स पर उड़ानों को लेकर जहां लोगों ने उड़ान समिति के पास आवेदन कर रखे हैं, वहीं कुल्लू में खोले गए उड़ान समिति के कार्यालय में लाहुल जाने के लिए अब तक 349 लोगों ने आवेदन किए हैं। इस तरह लाहुल से भी भारी संख्या में लोगों ने जिला से बाहर जाने के लिए हेलिकाप्टर सेवा के लिए उड़ान समिति के पास आवेदन कर रखे हैं। हलांकि प्रशासन का कहना है कि जीएडी द्वारा उड़ानों का नया शेड्यूल आते ही जनजातीय जिला के लिए उड़ाने शुरू हो जाएंगी। उधर, उड़ान समिति के प्रभारी अशोक कुमार का कहना है कि हेलिकाप्टर की उड़ानों का शेड्यूल आते ही लाहुल-स्पीति के लिए उड़ाने शुरू करवा दी जाएंगी। उन्होंने कहा कि यात्रियों के आवेदन का आंकड़ा जीएडी को भी भेजा गया है।