Monday, September 23, 2019 01:48 AM

दो माह में तैयार होगा दस करोड़ का भवन

बिलासपुर के मार्कंडेय मंदिर को अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस करेगा पर्यटन विकास निगम, काम जोरों पर

बिलासपुर -देश दुनिया में विख्यात बिलासपुर का मार्कंडेय तीर्थ स्थल का स्वरूप अब जल्द ही नया-नया नजर आएगा। पर्यटन विभाग के मास्टर प्लान के तहत लगभग दस करोड़ रुपए की लागत से पर्यटन विकास निगम द्वारा निर्मित किए जा रहे अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस भव्य भवन का निर्माण कार्य चल रहा है जो एक दो माह के अंदर पूरा हो जाएगा। भवन मंदिर न्यास प्रशासन के हैंडओवर होने के बाद इसका उद्घाटन कार्यक्रम तय किया जाएगा। खास बात यह है कि आधुनिक भवन मंे श्रद्धालुओं के लिए तमाम सहूलियतें उपलब्ध होंगी। बिलासपुर सदर के एसडीएम एवं मार्कंडेय मंदिर न्यास के अध्यक्ष नरेंद्र कुमार आहलुवालिया ने बताया कि मंदिर न्यास के सुपुर्द होने के बाद भवन मंे स्थापित 11 दुकानों की अलॉटमंेट की जाएगी, जबकि भवन में आवासीय सुविधाओं के साथ ही कई बड़े हाल तैयार किए गए हैं। योजना के तहत मंदिर में एक हाल, पर्यटन स्वागत स्थल, रेस्तरां व पार्किंग के साथ-साथ बड़े हाल में बैठने की भी व्यवस्था होगी, जिससे श्रद्धालुओं और पर्यटकों को सुविधाएं मिल सकेंगी। एक हाल में भजन कीर्तन करने की सुविधा उपलब्ध रहेगी। एक ही छत तले श्रद्धालुओं के लिए तमाम सहुलियतें उपलब्ध होंगी। उन्होंने बताया कि जल्द ही यह भवन बनकर तैयार होगा और इसका उद्घाटन करवाने के लिए तिथि का निर्धारण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सिस्टम में सुधार किया जाएगा और मंदिर परिसर को सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में लाया जाएगा। कर्मचारियों की डयूटी निर्धारित की जाएगी जिसके तहत मंदिर में कर्मचारियों की नियमित रूप से ड्यूटी डिसाइड होगी। उल्लेखनीय है कि मार्कंडेय गांव में स्थित प्राचीन श्री मार्कंडेय मंदिर के सौंदर्यीकरण एवं विस्तारीकरण परियोजना का पूर्व सरकार के समय मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने शिलान्यास किया था। पर्यटन विकास बोर्ड तथा पर्यटन विभाग की इस परियोजना पर दस करोड़ खर्च किए जा रहे हैं। चूंकि यह मंदिर प्राचीन होने के साथ-साथ ऐतिहासिक स्थल भी है। इसलिए इस मंदिर का निर्माण योजनावद्ध तरीक से किया जा रहा है, ताकि यह मंदिर न केवल प्रदेश में बल्कि पूरे देश में भव्यता, सुंदरता, सुविधाओं और योजनाबद्ध के निर्माण के लिए आदर्श धार्मिक स्थल के रूप में विख्यात हो सके।