दो हजार करोड़ के निवेश का लक्ष्य

मनाली के बाद 17 को शिमला में भी मिनी कानक्लेव

शिमला - हिमाचल में होने जा रहे दो मिनी कानक्लेव से सरकार ने दो हजार करोड़ रुपए के निवेश का लक्ष्य रखा है। सूत्रों के अनुसार करीब एक हजार करोड़ के ज्यादा के एमओयू मनाली में बुधवार को होंगे, वहीं 17 सितंबर को शिमला में भी इतने ही निवेश पर हस्ताक्षर होंगे। इन्वेस्टर मीट से जुड़े होर्डिंग्ज को भी मंजूरी मिल गई है और कुल्लू-मनाली में ऐसे होर्डिंग्ज लगाए जा चुके हैं। मनाली में 65 बड़ी कंपनियों के साथ एमओयू होंगे, जो कि तीन सेक्टर में होने जा रहे हैं। इस कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करने के बाद अधिकारी मनाली पहुंच चुके हैं। बुधवार को सुबह हेलिकाप्टर से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के वहां जाने का कार्यक्रम है। मनाली के मिनी कानक्लेव में टूरिज्म, आयुष व एमएसएमई कंपनियां आएंगी। शिमला में भी एक हजार से ज्यदा का निवेश खींचने का लक्ष्य रखा गया है। इससे हजारों लोगों को रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। प्रदेश में इससे पहले 17 हजार करोड़ रूपए के एमओयू शिमला में किए गए थे, जिसके बाद अब तक चरणबद्ध ढंग से यहां 32 हजार करोड़ के कुल एमओयू किए जा चुके हैं। बताते हैं कि इन निवेशकों व इनके बाद कई दूसरे निवेशकों को फिर इन्वेस्टर मीट में यहां सभी तरह की मंजूरियों के प्रपत्र सरकार सौंप देगी। शिमला में जो कॉनक्लेव होगा उसमें कुछ दूसरे सैक्टर के निवेशक हिस्सा लेंगे, जिसमें फूड प्रोसेसिंग, हैल्थ, आईटी, बिजली व एक दो दूसरे सेक्टर शामिल हैं।

Related Stories: