Sunday, November 17, 2019 04:28 PM

धर्मशाला में सचिवालय बनाया, मंत्री भी बिठाए

धर्मशाला     - पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने दूसरी राजधानी के सवाल पर कहा कि जब वह मुख्यमंत्री थे, उन्होंने धर्मशाला को सम्मान देते हुए सचिवालय भवन का निर्माण करवाया था। धर्मशाला सचिवालय में कांगड़ा के चारों मंत्री बारी-बारी बैठते थे। उन्होंने कहा कि भाजपा प्रैक्टिकल रूप से काम करती है, कांग्रेस की तरह कागजों में नहीं। कांग्रेस ने मात्र दस पैसे के कागज पर अधिसूचना जारी कर श्रेय लेने का काम किया है। दूसरी राजधानी के लिए सर्किट हाउस में मुख्यमंत्री से लेकर मंत्रियों तक को ठहरने की व्यवस्था से लेकर शीतकालीन प्रवास तक वह पूरे योजनाबद्ध ढंग से काम करते रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा ने कागजों में नहीं, बल्कि धरातल पर धर्मशाला का विकास किया है। प्रो. धूमल ने कहा कि भाजपा ने धर्मशाला को प्रदेश के खेल केंद्र के रूप में विकसित किया है। धर्मशाला में साई प्रशिक्षण केंद्र और सिंथेटिक ट्रैक की स्थापना की। सर्किट हाउस का नया ब्लॉक, खनियारा में फूड क्राफ्ट ट्रेनिंग संस्थान उनके कार्यकाल में ही खुले। धर्मशाला अस्पताल को भाजपा ने ही जोनल अस्पताल का दर्जा दिया, जबकि कांग्रेस ने सत्ता में आकर घोषणाएं ही की हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी सत्ता में रहते कर्मचारियों के लिए वेतन आयोग का गठन क्यों नहीं करवा सके। प्रो. धूमल ने कहा कि इन्वेस्टर्स मीट के जरिए हिमाचल की जमीनें बेचने के कांग्रेस के आरोप पर पूर्व सीएम ने कहा कि उनके कार्यकाल में भी कांग्रेस ने यह आरोप लगाया था। उनकी सरकार ने इसकी जांच के लिए आयोग गठित किया था, लेकिन कुछ भी नहीं निकला, उल्टे जांच में सामने आई गड़बडि़यां कांग्रेस के समय हुई थीं। वर्ष 2012 में कांग्रेस सरकार बनने पर यह रिपोर्ट दबा दी गई।

सभी सबूत पेश करे कांग्रेस

धूमल ने कांग्रेस द्वारा भाजपा पर वोटर्स को पैसे बांटने के लगाए आरोपों पर कहा कि महज नारे लगाने से आरोप साबित नहीं हो जाते। कांग्रेस के पास इसका कोई सबूत है, तो पेश करे।

यह तो सीएम ही बताएंगे

शीतकालीन प्रवास की परंपरा बंद होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस बारे में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ही बता सकते हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने विधायकों के यात्रा भत्ते बढ़ाने के सवाल पर कहा कि उन्होंने भत्तों में बढ़ोतरी को लेकर सरकार की आलोचना नहीं की। धूमल ने कहा कि सरकार ने विधायकों का वेतन नहीं, बल्कि विदेश यात्रा का भत्ता बढ़ाया है और इस मामले पर बनी असमंजस को दूर करने की उन्होंने सरकार को सलाह दी है। 

प्रचार ड्यूटी लगाना मेरा काम नहीं

प्रो. धूमल ने कहा कि चुनाव के लिए पार्टी ने उन्हें बुलाया था, इसलिए वह पहुंचे हैं। चुनावों में किसकी ड्यूटी कहां लगानी है, यह पार्टी तय करती है। पूर्व मंत्री रविंद्र रवि की धर्मशाला उपचुनाव के दौरान प्रचार में ड्यूटी न लगने के सवाल पर धूमल ने कहा कि प्रचार में किसी की ड्यूटी लगाना उनका काम नहीं है। इस बारे में उपचुनाव प्रभारी ही बता सकते हैं।