Monday, September 23, 2019 02:49 AM

धारभरथा में पुलिस को सौंपे दो फेरीवाले

बच्चा चोर गिरोह की दहशत के चलते बिना पंजीकरण घूमने पर ग्रामीणों ने दबोचा

स्वारघाट —उपमंडल स्वारघाट और साथ लगते जिला सोलन के क्षेत्रों में बच्चा चोर गिरोह के घुसने की अफवाहों से लोग सहमे हुए हैं। गांव-गांव में बच्चा चोर गिरोह चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि ऐसे गिरोह से निपटने के लिए पुलिस महकमा पूरी तरह से मुस्तैद है, लेकिन बावजूद इसके लोगों के मन में बैठा डर निकल नहीं रहा है। ग्रामीण जिन फेरीवालों से कपड़े, इलेक्ट्रॉनिक व अन्य सामान लेते थे, आज उन्हीं फेरी वालों को ग्रामीणों द्वारा बेरहमी से पीटा जा रहा है। जिला में अब तक बच्चा चोर समझ कर कई लोगों की पिटाई हो चुकी है और सभी मामलों में बेकसूर लोगों को पिटा गया है, जिनमे मंदबुद्धि और फेरी वाले बेकसूर लोग शामिल थे। शनिवार को भी कुटैहला पंचायत के गांव धारभरथा में एक ऐसा ही मामला सामने आया है, लेकिन इस मामले में लोगों ने फेरी वालों की पिटाई नहीं की, बल्कि उन्हें पुलिस के हवाले किया है। जानकारी के अनुसार पंजाब के रोपड़ के रहने वाले दो फेरीवाले शनिवार सुबह धारभरथा गांव में सामान बेचने के लिए आए। ग्रामीणों ने उनसे पुलिस थाना की रजिस्ट्रेशन  दिखाने के लिए कहा तो वे कुछ नहीं दिखा पाए, जिसके बाद ग्रामीणों ने उन्हें पुलिस थाना स्वारघाट को सौंप दिया है। बता दें कि सोशल मीडिया पर इन दिनों बच्चा चोर गिरोह से संबंधित कई तरह की वीडियो वायरल हो रही है। इनमें कितनी सच्चाई है, यह तो किसी को पता नहीं, लेकिन फिर भी लोग इन्हें आगे से आगे शेयर कर रहे हैं। हाल ही में सोशल मीडिया पर नयनादेवी के बस्सी की एक वीडियो वायरल हुई है, जिसमें ग्रामीण किसी मंदबुद्धि औरत को पीट रहे हैं। औरत नयनादेवी की बताई जा रही है।