Sunday, November 17, 2019 04:26 PM

धूल से परेशान मुबारिकपुर-दौलतपुर चौक

अंब - निर्माणाधीन मुबारिकपुर-दौलतपुर मार्ग दुर्घटनाओं की जड़ बन चुका है। मुबारिकपुर बाजार में उड़ रही धूल मिट्टी से अभी तक एक व्यक्ति अपाहिज व दर्जनों लोग घायल हो चुके है। यहीं नहीं कई लोगों को बीमारी लगने का डर सता रहा है। स्थानीय निवासी उपप्रधान दविंद्र काकू, मिंटू ठाकुर, रविकांत, लाल सिंह, गुरमीत सिंह, विक्की ठाकुर, राज सिंह, अमन सोहल, युद्धबीर सिंह, सोनू शर्मा, मोहित सिंह, सुमित, अजय, नरेश ठाकुर, हरीश आदि ने बताया कि उक्त मार्ग का कार्य पिछले दो वर्षों से चला हुआ है। ठेकेदार ने उक्त सड़क कार्यों को अपने स्तर पर कई अन्यों ठेकेदारों को विभाजित कर रखा है। पंद्रह किलोमीटर निर्माणधीन मार्ग पर ठेकेदार की लेबर एक स्थान पर टिक कर काम नहीं करती है। हैरानगी का विषय है कि मार्ग पर विभाग का कोई अधिकारी नजर आने के बजाय कार्य की सारी जिम्मेदारी ठेकेदार द्वारा रखे गए सेवानिवृत्त लोक निर्माण अधिकारी को सौंप रखी है। परिणामस्वरूप इस पंद्रह किलोमीटर लंबे मार्ग पर कहीं तो कोलतार बिछा दी गईं है, लेकिन कहीं पर कार्य को आधा अधूरा छोड़ दिया गया है। यदि मुबारिकपुर से सुंकाली तक करीब एक किलोमीटर निर्माणधीन मार्ग की बात की जाए तो यहां पर कई महीनों से उड़ रही धूल मिट्टी से करीब एक सौ दुकानदार इतने ही रिहाशी मकान व एक वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल के विद्यार्थी परेशान हो रहे है। थकहारकर लोगों ने सीएम की हेल्पलाइन का दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने कहा कि दुकानों के साथ-साथ सड़क किनारे मकानों में रह रहे सैकड़ों लोगों को बीमारी लगने का भय सता रहा है। उन्होंने बताया की यदि सड़क पर पानी डाल दिया जाए तो भी थोड़ा लोगों को राहत मिल सकती है। उन्होंने बताया कि इसी तरह इन दिनों चिंतपूर्णी में भी सड़क निर्माण का कार्य चला हुआ है, लेकिन उस कार्य की गुणवत्ता मुबारिकपुर के कार्य से कई गुणा बेहतर है। उन्होंने चेतावनी दी है की यदि समस्या का समाधान नहीं किया गया तो लोग सड़क पर उतरने के लिए तैयार बैठे है। जल्द सड़क का अधूरा कार्य पूरा कर दिया जाएगा। जब विभाग के एसडीओ बलदेव से बात की गई तो उन्होंने बताया कि ठेकेदार को पंजाब से कोलतार की एनओसी नहीं मिल रही है। विधायक राजेश ठाकुर से बात करने पर उन्होंने बताया किठेकेदार को तुरंत कार्य मकम्मल करने की बात कहीं है। विभागीय अधिकारी को ठेकेदार के टैंकर के साथ-साथ विभाग के टैंकर से भी चयनित स्थानों पर पानी छोड़ने के निर्देश दिए गए है।