Tuesday, August 11, 2020 12:49 AM

नई अधिसूचना को रद्द करे सरकार

नहीं थम रहा ग्रांफू-सुमदो सड़क पर मचा बवाल, काजा में भूख हड़ताल पर डटे बीआरओ के मजदूर

केलांग – ग्रांफू-सुमदो सड़क पर मचा बवाल थमने का नमा नहीं ले रहा है। इस सड़क को बीआरओ से लेकर पीडब्ल्यूडी के पास देने की जो नई अधिसूचना जारी की गई है इसे लेकर छह जून से बीआरओ के मजदूर जहां काजा में भूख हड़ताल पर डटे हुए हैं, वहीं लेवर कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम व उपाध्यक्ष नोरबू का कहना है कि वह तब तक भूख हड़ताल पर बैठे रहेंगे, जब तक सरकार उनकी मांग को नहीं मान लेती है। उन्होंने कहा कि मजदूरों ने सरकार से यही मांग की है कि नई अधिसूचना को रद्द किया जाए, ताकि मजदूरों का रोजगार बच सके। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में उक्त सड़क पर बीआरओ के पास 213 मजदूर काम कर रहे हैं। ग्रांफू-सुमदो सड़क अगर पीडब्ल्यूडी के पास जाती है, तो एक तरफ जहां उनका रोजगार चला जाएगा, वहीं उन्हें खाने की भी लाले पड़ जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस संबंध में स्पीति प्रशासन के माध्यम से प्रदेश सरकार को भी सूचित किया गया है, लेकिन भूख हड़ताल के तीन दिन बीत जाने के बाद भी सरकार के किसी भी नुमाइदें ने उनसे संपर्क नहीं साधा है। उन्होंने कहा कि अब मजदूरों ने अपने हक की लड़ाई लड़ने का निर्णय लिया है। ऐेसे में उक्त मजदूर जहां स्पीति में अपना आंदोलन तेज करेंगे, वहीं ग्रांफू-सुमदो सड़क को लेकर जारी की गई नई अधिसूचना को हर हाल में रदद करवा कर छोड़ेंगे। उल्लेखनीय है कि ग्रांफू-सुमदो सड़क लाहुल-स्पीति के जहां पर्यटन करोबार से भी काफी महत्वपूर्ण है, वहीं सेना की दृष्टि से भी इस मार्ग की महत्त्वता को असानी से देखा जा सकता है। भारत की तिब्बत के  साथ लगने वाली सीमा तक जाने वाले उक्त मार्ग की देख रेख जहां वर्ष 2014 से बीआरओ कर रहा है, वहीं हाल ही में सरकार ने इस सड़क की देख रेख की जिम्मेदारी पीडब्ल्यूडी को देने का निर्णय लिया है। ऐसे में इस संबंध में जारी की गई नई अधिसूचना को लेकर अब बीआरओ के मजदूर भी लामबंद हो गए हैं। मजदूरों का कहना है कि कोरोना के इस दौर में जहां लोगों को रोजगार नहीं मिल रहा है, वहीं सरकार की नई अधिसूचना के जारी होने के बाद उनकी रोजी रोटी भी खतरे में पड़ गई है। लाहुल-स्पीति प्रशासन के माध्यम से सरकार को इस संबंध में ज्ञापन भी भेजा गया है, वहीं स्पीति के स्थानीय लोग भी सरकार के इस फैसले का विरोध कर रहे हैं। लिहाजा मजदूरों ने जहां छह जून से स्पीति के मुख्यालय काजा में भूख हड़ताल कर रखी है, वहीं सरकार ने उनकी सुध तक नहीं ली है। उन्होंने कहा कि ग्रांफू-सुमदो सड़क को बीआरओ के पास ही रहने की मजदूर सरकार से मांग कर रहे हैं। बहरहाल ग्रांफू-सुमदो सड़क को लेकर जारी की गई नई अधिसूचना को लेकर मचे घमासान के बीच अब बीआरओ के मजदूर भी पिछले तीन दिनों से भूख हड़ताल पर काजा में डटे हुए हैं।

The post नई अधिसूचना को रद्द करे सरकार appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.