Wednesday, July 17, 2019 12:19 AM

नशा-खनन माफिया से लडूंगी 

धर्मशाला    —हिमाचल प्रशासनिक सेवा की परीक्षा परिणाम में दूसरा स्थान हासिल करने वाली शाहपुर की स्वाति डोगरा नशा व खनन माफिया के खिलाफ कार्य करना चाहती है। स्वाति महिला सशक्तिकरण, शिक्षा तथा मौसम परिवर्तन की दिशा में अभियान छेड़ना चाहती हैं। स्वाति ने इस परीक्षा के लिए किसी भी प्रकार की कोचिंग नहीं ली है। वह इससे पहले तीन बार एचएएस की परीक्षा दे चुकी हैं। उन्होंने बताया कि वह पिछले एक साल से घर पर ही इस परीक्षा की तैयारी कर रही थीं तथा रोजाना आठ से नौ घंटे तक पढ़ाई करती थीं। स्वाति के पिता वेणुगोपाल डोगरा वन विभाग में डीएफओ के पद पर कार्यरत थे तथा 2009 में उनका निधन हो गया। उस दौरन वह पंजाब विश्वविद्यालय से चंडीगढ़ में बॉटनी ऑनर्स में एमएससी कर रही थीं। स्वाति का एक छोटा भाई है, जो मुंबई में बतौर इजीनियर एक निजी कंपनी में कार्यरत है, जबकि घर पर वह और उनकी माता रीता डोगरा ही रहती हैं। स्वाति की शुरुआती पढ़ाई डीएवी स्कूल धर्मशाला में हुई है तथा बारहवीं तक की पढ़ाई गर्ल्स स्कूल धर्मशाला, जबकि आगे की पढ़ाई धर्मशाला कालेज से की। स्वाति ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से बीएड व एमएड भी की है। पढ़ाई के बाद उन्होंने शाहपुर के द्रोणाचार्य कालेज रैत में एक साल तक अध्यापन का कार्य भी किया है। स्वाति ने एचएएस की तैयारियों के चलते बाद में जॉब छोड़ दी थी। स्वाति अपनी इस उपलब्धि पर खुश है तथा इसका श्रेय माता रीता डोगरा, भाई कार्तिकेय को देती हैं।