Monday, September 23, 2019 02:03 AM

नशे के कारोबारियों को कांग्रेस की शह

ऊना - पेखूबेला शराब प्रकरण से कांग्रेस का चेहरा बेनकाब हो गया। यह बात प्रदेश भाजपाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने ऊना मुख्यालय पर परिधि गृह में पत्रकार वार्ता के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस विधायक मुकेश अग्निहोत्री व सतपाल रायजादा शराब माफिया के विरुद्ध कार्रवाई से तिलमिलाएं हुए क्यों हैं। सतपाल सत्ती ने आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस नेताओं के शराब माफिया व नशे के सौदागरों के साथ कथित संबंध रहे हैं। जिला ऊना में ही चिट्टे, भुक्की, चरस व शराब तस्करी के आरोपियों के साथ कांग्रेस नेताओं की सार्वजनिक सभाओं में उपस्थिति से यह साबित होता है कि ऐसे अपराधिक तत्त्वों को कांग्रेस नेताओं का पूर्ण संरक्षण प्राप्त है। उन्होंने कहा कि पेखूबेला शराब प्रकरण में पकड़ा गया आरोपी युवा कांग्रेस का सक्रिय पदाधिकारी है। वहीं, इससे पहले 39 किलोग्राम भुक्की के साथ पकड़ा गया संतोषगढ़ का आरोपी युवक भी कांग्रेस का सक्रिय सदस्य रहा है। सतपाल सत्ती ने कहा कि कांग्रेस नेता नशे के आरोपियों के घर बैठके करते थे। वहीं, इन नेताओं के तोले भी आपराधियों द्वारा किए गए। सतपाल सत्ती ने कहा कि उनके पास इसके पुख्ता प्रमाण है। उन्होंने कांग्रेस नेताओं को चेताते हुए कहा कि यदि जरूरत पड़ी तो ऊना के एमसी पार्क में इन अपराधियों के कांग्रेस नेताओं के साथ प्रदर्शनी तक लगा देंगे। वहीं, प्रदेश विधानसभा के समक्ष भी कांग्रेस की पोल खोलेंगे। सतपाल सत्ती ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री व ऊना सदर विधायक सतपाल रायजादा स्पष्ट करें कि पुलिस को शराब माफिया के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए या नहीं। उन्होंने कहा कि विधायक के पीएसओ, ड्राइवर व पीए ने पुलिस कर्मियों के साथ मारपीट की व शराब कारोबारी को बचाने का प्रयास किया। उन्होंने सवाल उठाते हुए पूछा कि शराब कारोबारी को बचाने पहुंची तीसरी गाड़ी में कौन लोग थे, जो मौके से फरार हो गए। सतपाल सत्ती ने कहा कि ऊना पुलिस नशे के कारोबारियों के विरुद्ध बेहतर कार्य कर रही है और हर दो नंबर का काम करने वाले अपराधियों के विरुद्ध पुलिस इसी प्रकार सख्ती से निपटेगी। इस अवसर पर जिला भाजपाध्यक्ष बलबीर बग्गा, महासचिव यशपाल राणा, ऊना मंडलाध्यक्ष रमेश भडोलिया, अमृत भारद्वाज, पवन कपिला, सागर दत्त भारद्वाज व अन्य भाजपा नेता उपस्थित थे।

आबकारी विभाग पर उठाए सवाल

सतपाल सत्ती ने आबकारी विभाग को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जिस ठेके से बिना लेवल के 100-100 पेटी शराब अनधिकृत रूप से सप्लाई की जा रही हो, उस ठेके के विरुद्ध विभाग द्वारा कार्रवाई न करना भी सवाल खड़े कर रहा है। उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारियों को ऐसे मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए ठेके को सील करना चाहिए था और विभागीय कार्रवाई अमल में लानी चाहिए। किसी को भी नियमों की अवहेलना करने की इजाजत नहीं देनी चाहिए।