Wednesday, October 16, 2019 01:56 AM

नहीं टपकते नल, फिर भी हाथ में थमा दिए बिल

बेहड़ा में 2010 से नल बने शोपीस, ग्रामीणों ने विभाग पर जड़े आरोप

डंगार चौक -घुमारवीं उपमंडल की पंचायत लैहड़ी-सरेल का गांव बेहड़ा में लगे पानी के नल शोपीस बने हुए हैं। नलों में पानी की बूंद न आने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग पर अनदेखी का आरोप लगाया है। लोगों का कहना है कि घरों में लगे नलों में 2010 के बाद पानी नहीं आया है। पानी की सप्लाई की पाइपों में जंग लगा है, लेकिन विभाग लोगों के हाथों में बिल थमा रहा है। लोगों ने प्रशासन तथा संबंधित विभाग से समस्या का समाधान की मांग की है। लोगों ने चेताया कि यदि समाधान न हुआ, तो मजबूरन धरना-प्रदर्शन करना पड़ेगा। गांव के लोगों में पूर्व प्रधान  एवं पूर्व जिला पार्षद आई डी शर्मा, कुलदीप कुमार, मदन लाल, कृष्ण चंद शर्मा, विशन दास, नंद लाल व सुरेंद्र कुमार ने बताया कि गांव में पिछले 16-17 साल से नलों में पानी की एक बूंद नहीं आई और नल शोपीस बने हैं लेकिन विभाग का कारनामा देखिए कि विभाग बिल पर बिल दिए जा रहा है। उन्होंने बताया कि बेहड़ा गांव की योजना 2010 के बाद ठप पड़ी है और पाइपों को जंग लगा है लेकिन फिर भी पानी की बिल दिया जा रहा है।  न कोई पानी वाला आता है और न विभाग का कोई व्यक्ति लेकिन बिल भेज रहे हैं। शर्मा ने बताया कि पेयजल योजना लैहडी सरेल-एक के नाम से चलती थी। लेकिन जब वह 2010 में पंचायत प्रधान बने, तो योजना रूटलैस हो गई यानी पानी आना ही बंद हो गया। यह योजना वेहडा व समसाय गांव के लिए थी अब पानी की पाइपों में जंग लग चुका है और बीच से पाइपों को ऊखाड़ दिया गया है। लेकिन आज भी पानी के बिल थमा दिए गए हैं।