Wednesday, December 11, 2019 05:19 PM

नाहन में ईद-उल-जुहा पर अमन-शांति का पैगाम

जिला सिरमौर में मुस्लिम समुदाय ने धूमधाम से मनाया त्योहार,नाहन में सभी मस्जिदों में अता की नमाज

नाहन -नाहन में ईद-उल-जूहा का त्योहार मुस्लिम समुदाय द्वारा धूमधाम से मनाया जा रहा है। तीन दिवसीय ईद-उल-जुहा अथवा बकरीद का त्योहार पूरे देश समेत सभी धर्मों को मानने वाला नाहन में भी मनाया जा रहा है। मुस्लिम समुदाय का यह त्योहार पवित्र माना जाता है, जिसे ईद-उल-जुहा के नाम से भी जाना जाता है। जिला सिरमौर मुस्लिम वेलफेयर कमेटी के अध्यक्ष परवेज इकबाल ने बताया कि ईद-उल-जुहा का त्योहार कुर्बानी के त्योहार के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने बताया कि पैगंबर हजरत इब्राहिम ने अल्लाह के हुकूम पर अपने बेटे की कुर्बानी दी थी। इसी घटना से इस त्योहार को मनाने का प्रचलन शुरू हुआ है। सिरमौर जिला के मुस्लिम वेलफेयर कमेटी के अध्यक्ष परवेज इकबाल ने बताया कि इस दौरान मुसलमान भाइयों ने शहर की मस्जिदों में जाकर नमाज अता की, जिसके बाद बकरे की कुर्बानी त्योहार में रस्म अनुसार की गई। इस दौरान नाहन के जामा मस्जिद कच्चा टैंक, शमशेरगंज, हरिपुर मोहल्ला, गुन्नूघाट, रानीताल आदि मस्जिदों में तकरीबन चार हजार मुस्लिम समुदाय के लोगों ने नमाज अता की। उन्होंने बताया कि ईद उल जुहा पर सक्षम लोग अपने घरों में बकरे की कुर्बानी देकर मांसाहारी दावत पर अपने रिश्तेदारों और संबंधियों के अलावा गरीब लोगों को बुलाकर दावत का नजराना पेश करते हैं। परवेज इकबाल ने बताया कि इस मौके पर जकात देने का प्रचलन है, जिसके तहत आर्थिक रूप से संपन्न लोगों ने गरीबों को दान भी किया। उन्होंने बताया कि सोमवार को ईद के मौके पर पूरा दिन रिश्तेदारों और दोस्तों को ईद की मुबारक दी गई तथा एक-दूसरे के घर जाकर मुबारकबाद देने का यह सिलसिला जारी रहा। इस मौके पर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने नए कपड़े पहनकर शहर में चहल-कदमी की तथा स्वादिष्ट व्यंजनों का भी मजा लिया।