Tuesday, January 21, 2020 11:17 AM

नौकरी दो, नहीं तो करेंगे आत्मदाह

मृतक कर्मचारियों के आश्रितों ने बीबीएमबी प्रबंधन को चेताया, करुणामूलक आधार पर मांगी तैनाती

नेरचौक-बीबीएमबी प्रबंधन के भेदभावपूर्ण रवैये से तंग आकर मृतक कर्मचारियों के आश्रितों ने अब सामूहिक आत्मदाह करने का मन बना लिया है। बीबीएमबी में सेवा के दौरान मृतक कर्मचारियों के आश्रितों ने पिछले कई सालों से कोरे आश्वासनों से तंग आकर अब चेयरमैन कार्यालय चंडीगढ़ के बाहर आत्मदाह करने का निर्णय लिया है। सभी ने बीबीएमबी प्रबंधन चेयरमैन को पत्र लिखकर चेताया है कि अगर बीबीएमबी प्रबंधन मांगों को नहीं मानता और वंचित आश्रितों को करुणामूलक आधार पर रोजगार मुहैया नहीं करवाता है, तो सभी मिलकर सामूहिक आत्मदाह करेंगे, जिसकी पूर्ण जिम्मेदारी बीबीएमबी प्रबंधन की होगी। उन्होंने कहा है कि करुणामूलक आधार पर बीबीएमबी प्रबंधन सभी मृतक कर्मचारियों के आश्रितों को रोजगार मुहैया करवा रहा है, लेकिन वर्ष 2005 से लेकर 2010 के बीच के आश्रितों के लिए करुणामूलक आधार पर रोजगार नहीं दिया जा रहा है। आश्रितों में अजय कुमार, राजन कांत, तपेश गौतम, निर्मल, राकेश कुमार, प्रवीण शर्मा, रचना कुमारी, रमन कुमार, सतीश कुमार, संगम, कुलदीप, राजेंद्र, अमरजीत, राहुल, रजत, अशोक, रमेश, संदीप, कमलेश, मनीष, इंद्रवीर, गुरप्रीत सहित अन्य वंचित आश्रितों ने कहा है कि 20 दिसंबर को बीबीएमबी प्रबंधन बोर्ड की बैठक होने जा रही है, जिसमें प्रबंधन बोर्ड की विभिन्न समस्याओं के बारे में चर्चा की जाएगी।  इस बार मीटिंग में सभी आश्रित शामिल होंगे, यदि पक्ष में कोई नीति नहीं बनाई जाती है तो वहीं पर चेयरमैन कार्यालय के बाहर सामूहिक आत्मदाह करेंगे।