नौजवानों के लिए रोल माडॅल से कम नहीं अनुष्का शर्मा

ऊना की बेटी ने गणतंत्र दिवस परेड के जूनियर वर्ग में हासिल किया बेस्ट एनसीसी कैडेट का खिताब
नाम  :  अनुष्का शर्मा
जन्म  :  4 अगस्त, 2005 चंडीगढ़ पिता  :  बलविंद्र शर्मा माता :  अनामिका शर्मा शिक्षा :  जेएनवी पेखुबेला 9वीं की छात्रा ‘दिव्य हिमाचल मीडिया ग्रुप’ हिमाचल, हिमाचली और हिमाचलीयत की सेवा में सदैव तत्पर रहा है। यही कारण है कि किसी भी रूप में कुछ हटकर करने वालों को सम्मान हमारी प्राथमिकता में शामिल है। ‘दिव्य हिमाचल एक्सिलेंस अवार्ड‘ ऐसी ही कर्मठ विभूतियों, संगठनों व संस्थाओं के प्रयासों को प्रणाम करने का संकल्प है। ‘दिव्य हिमाचल एक्सिलेंस अवार्ड’ की ‘युवा आदर्श’ श्रेणी में शुमार हैं ऊना की अनुष्का शर्मा...
ऊना - 
दिल्ली में 71वीं गणतंत्र दिवस परेड में जूनियर वर्ग में देश की बेस्ट एनसीसी कैडेट का खिताब जीतने वाली अनुष्का शर्मा युवाओं के लिए रोल मॉडल बन गई हैं। अनुष्का शर्मा जवाहर नवोदय विद्यालय पेखूबेला की नौवीं कक्षा की छात्रा हैं। 14 वर्ष की उम्र में ही अनुष्का ने अपने कड़े परिश्रम व मजबूत इच्छा शक्ति के बल पर देशभर में बेस्ट एनसीसी कैडेट का अवार्ड हासिल किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अनुष्का को गोल्ड मेडल से सम्मानित किया है। अनुष्का शर्मा के दमदार प्रदर्शन के चलते चंडीगढ़ एनसीसी निदेशालय भी देशभर में अव्वल रहा है। अनुष्का भविष्य में डीआरडीओ (डिफेंस रिसर्च एंड  डिवेलपमेंट आर्गेनाइजेशन) में साइंटिस्ट बनना चाहती हैं। अनुष्का ने अपने जीवन में एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग कर डीआरडीओ में सेवाएं देने का लक्ष्य रखा है। इस मुकाम तक पहुंचने के लिए अुनष्का कड़ा परिश्रम कर रही हैं। देश भर के लड़के व लड़कियों के बीच कंपीट कर अपने आपको साबित करके अनुष्का ने दूसरों को भी राह दिखाई है। अनुष्का ने बता दिया है कि अगर किसी लक्ष्य को पाने के लिए दृढ़ संकल्प किया जाए और कड़ी मेहनत की जाए, तो कोई भी बाधा आपके कदमों को नहीं रोक सकती। वहीं अनुष्का शर्मा के अनुसार, इनसान मजबूत इरादों और कड़ी मेहनत से बड़े से बड़ा मुकाम हासिल कर सकता है। अनुष्का न केवल बेस्ट कैडेट हैं, बल्कि पढ़ाई में भी अव्वल रहती हैं। इसके साथ ही बैडमिंटन व वॉलीबाल की बेहतरीन खिलाड़ी भी हैं। इससे पहले अनुष्का का प्लास्टिक वेस्ट से ईंटें बनाने का साइंस प्रोजेक्ट पूरे देश में धूम मचा चुका है। भुवनेश्वर में उसके प्रोजेक्ट को खूब सराहा गया था। इंस्पायर अवार्ड के तहत दस हजार स्कॉलरशिप प्राप्त कर अनुष्का भविष्य में साइंटिस्ट बनने के अपने इरादे जाहिर कर चुकी हैं। अनुष्का की कामयाबी पर आज जिला ऊना ही नहीं, बल्कि पूरा प्रदेश जश्न मना रहा है। अनुष्का के माता-पिता भी अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। पीएम ने दी आत्मविश्वास की सीख प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों सम्मान पाने को अनुष्का अपने जीवन का अविस्मरणीय पल बताती हैं। अनुष्का का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उसे हर काम आत्मविश्वास से करने की सीख दी है, जिसे वह जिंदगी भर याद रखेंगी। उनके अनुसार यह उनकी जिंदगी के सबसे कीमती पल थे। भाई की प्रेरणा से ज्वाइन की एनसीसी अनुष्का के भाई ने उसे एनसीसी ज्वाइन करने के लिए प्रेरित किया। अनुष्का का कहना है कि एनसीसी में जो एक्सपोजर है, वह और कहीं नहीं। एनसीसी ज्वाइन युवा अनुशासन में रहना सीखते हैं। अन्य युवाओं को भी एनसीसी ज्वाइन करनी चाहिए और देश की प्रगति में अपना सहयोग करना चाहिए। उपलब्धियां * विद्यार्थी विज्ञान मंथन प्रतियोगिता के तहत मुंबई में भाभा एटॉमिक सेंटर में प्रदेश का प्रतिनिधित्व किया। * भुवनेश्वर में 2018 में संपन्न नेशनल चिल्ड्रन साइंस कांग्रेस में जूनियर साइंस स्टूडेंट के रूप में प्लास्टिक वेस्ट को ब्रिक्स में तबदील करने का प्रोजेक्ट प्रस्तुत किया। * जेएनवी राष्ट्रीय प्रतियोगिता में अंडर-17 वॉलीबाल टीम की सदस्य के रूप में चंडीगढ़ रिजन का प्रतिनिधित्व किया। * इंस्पायर योजना के तहत साइंस प्रोजेक्ट का चयन व 10 हजार का वजीफा मिला। * कविता गायन व भाषण प्रतिस्पर्धा में प्रथम स्थान प्राप्त किया * जेएनवी पेखूबेला स्कूल में छठी से आठवीं कक्षा तक लगातार रही टॉपर *  टेस्ट क्वालिफाई कर जेएनवी में छठी कक्षा में प्रवेश

Related Stories: