Monday, October 21, 2019 12:21 AM

न्यायमूर्ति चौधरी फिर कार्यवाहक चीफ जस्टिस

देश की शीर्ष अदालत में प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की अहम भूमिका

शिमला - हाई कोर्ट के वरिष्ठतम न्यायाधीश धर्मचंद चौधरी प्रदेश उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश होंगे। उन्हें प्रदेश के मुख्य न्यायाधीश वी रामासुब्रह्मण्यन की सर्वोच्च न्यायालय  के न्यायाधीश के तौर पर नियुक्ति के बाद केंद्रीय कानून मंत्रालय द्वारा प्रदेश हाई कोर्ट का कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया है। इन्हें दूसरी मर्तबा हाई कोर्ट का कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश बनाया गया है। इससे पहले हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश सूर्यकांत के सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश नियुक्त किए जाने पर भी इन्हें कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश बनाया गया था। यह संयोग का ही विषय है कि इसी वर्ष प्रदेश उच्च न्यायालय के दो मुख्य न्यायाधीश सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश बनाए गए हैं। प्रदेश हाई कोर्ट के कई मुख्य न्यायाधीश व न्यायाधीश सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश बनाए गए हैं। अगर यह कहा जाए कि प्रदेश हाई कोर्ट के न्यायाधीशों की देश की शीर्ष अदालत में अहम भूमिका रही है, तो यह अतिशयोक्ति नहीं होगी। इनसे पहले प्रदेश उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश एएम खानविलकर मध्य प्रदेश हाई कोर्ट स्थानांतरित करने के पश्चात सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के तौर पर कार्य कर रहे हैं। इनसे पहले हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश कुरियन जोसेफ सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश रहने के बाद सेवानिवृत्त हो चुके हैं। इनसे पहले हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश सीके ठक्कर मुंबई हाई कोर्ट स्थानांतरित होने के बाद सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश रह चुके हैं। पूर्व मुख्य न्यायाधीश डी राजू व एमएन श्रीनिवासन सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश रह चुके हैं। पूर्व मुख्य न्यायाधीश एसएन फुकन को ओडिशा हाई कोर्ट स्थानांतरित करने के पश्चात सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश बनाया गया था। पूर्व मुख्य न्यायाधीश एनएम कासलीवाल सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश रह चुके हैं। हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश आरएस पाठक सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रह चुके हैं। हाई कोर्ट के पहले मुख्य न्यायाधीश मिर्जा हमीदुल्लाह बेग भी सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रह चुके हैं। हाई कोर्ट के न्यायाधीशों में लोकेश्वर सिंह पाटा को सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश बनाया गया था। वर्तमान में हाईकोर्ट पूर्व न्यायाधीश दीपक गुप्ता सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश हैं। यह भी संयोग का ही विषय है कि पंजाब एंड हरियाणा हाई कोर्ट में कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजीव शर्मा भी प्रदेश हाई कोर्ट के ही न्यायाधीश हैं। वह इससे पहले उत्तराखंड उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रह चुके हैं। त्रिपुरा हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश संजय करोल को प्रदेश हाई कोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रहने के पश्चात झारखंड हाई कोर्ट स्थानांतरित करने के लिए कॉलेजियम द्वारा सिफारिश की गई है।