Thursday, August 06, 2020 06:35 PM

न्याय को दर-दर भटक रही महिला

पांवटा साहिब-वर्ष 2014 में कथित बलात्कार की एक पीडि़ता ने आरोपी और पुलिस पर मिलीभगत कर रेप के मामले को दबाने के गंभीर आरोप लगाए हैं। मामला ऐसे समय में प्रकाश में आया है जब बलात्कार के मामलों में त्वरित कार्रवाई और बलात्कारियों को फांसी की देशव्यापी मांग को लेकर देश उबल रहा है। पांवटा साहिब में एक महिला पत्रकारों के सामने आई और आपबीती सुनाई। महिला ने बताया कि करीब पांच साल पहले वह एक क्लीनिक में काम करती थी। इस दौरान क्लीनिक के मालिक ने नशा करवाकर उसके साथ बलात्कार किया था। मामला दबाने के लिए शातिर आरोपी ने महिला के साथ शिकायत दर्ज होने के अगले दिन फर्जी निकाह भी किया था, लेकिन महिला द्वारा बलात्कार का मामला दर्ज करवाने के बावजूद मामले में अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। ऐसे में पीडि़ता ने पुलिस पर आरोपी के साथ मिलीभगत कर मामले को दबाने के गंभीर आरोप लगाए हैं। पांवटा की एक बलात्कार पीडि़ता पिछले पांच सालों से न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खा रही है, लेकिन इस अभागी विधवा व दो बच्चों की मां को न्याय नहीं मिल रहा है। महिला ने 16 अप्रैल, 2014 को आरोपी के खिलाफ आवाज उठाई थी। महिला ने पुलिस में शिकायत की लेकिन पुलिस ने मेडिकल नहीं किया, क्योंकि आरोपी इस महिला के साथ शादी के फर्जी कागजात लेकर पुलिस में पहुंचा। इसके बाद से महिला न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खा रही है। इस दौरान मौजूद रहे एंटी क्रप्शन एंड क्राइम कंट्रोल फोर्स के स्टेट चीफ नात्थु राम चौहान ने भी मामले में जल्द उचित कार्रवाई की मांग की। उधर, इस बारे में डीएसपी सोमदत्त ने बताया कि यह मामला उनके कार्यकाल से पहले का है। उन्होंने कहा कि कोर्ट से इस मामले पर पुर्नजांच के लिए कहा है। तय समय 15 जनवरी तक जांच रिपोर्ट पेश कर दी जाएगी।