Tuesday, September 17, 2019 02:16 PM

पच्छाद उपचुनाव में भाजपा के सात, तो कांग्रेस से एक उम्मीदवार

नाहन -हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा की धर्मशाला व सिरमौर जिला की पच्छाद आरक्षित सीट के उपचुनाव को लेकर भाजपा व कांग्रेस में, जहां सरगर्मियां अचानक तेज हो गई हैं, वहीं टिकट के दावेदारों ने भी टिकट के लिए ताल ठोंकनी शुरू कर दी है। जिला सिरमौर की बहुचर्चित पच्छाद विधानसभा सीट पर उपचुनाव को लेकर भाजपा व कांग्रेस ने जहां जोर आजमाइश शुरू कर दी है, वहीं टिकट की दौड़ में संभावित प्रत्याशियों ने भी पार्टी का टिकट हासिल करने के लिए पार्टी मुख्यालय में दस्तक देनी शुरू कर दी है। सिरमौर के पच्छाद सीट से, जहां कांग्रेस के दिग्गज नेता गंगूराम मुसाफिर एक बार फिर से पार्टी का पुराना चेहरा मैदान में घोषित कर दिया गया है, वहीं भाजपा के लिए फिलहाल टिकट का आबंटन मुश्किल भरा लग रहा है। भारतीय जनता पार्टी भले ही पच्छाद विधानसभा क्षेत्र में पिछले दो विधानसभा चुनाव व हाल ही में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में मजबूती से उभरी है, परंतु पार्टी के अंदर सब कुछ सही नहीं है। ऐेसे में टिकट की दौड़ में वर्तमान में शामिल सात आवेदकों में खूब जोर आजमाइश हो रही है। सूत्रों के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी के पच्छाद सीट से टिकट आवेदन करने वालों में इस बार गिरिपार व गिरिआर का भी नारा गूंज रहा है। अब तक पच्छाद विधानसभा सीट से गंगूराम मुसाफिर व सुरेश कश्यप क्षेत्र का नेतृत्व कर चुके हैं तथा दोनों ही नेता गिरिआर से संबंध रखते हैं। इसके अलावा वर्तमान में हिमाचल प्रदेश कृषि एवं विपणन बोर्ड के चेयरमैन बलदेव भंडारी भी गिरिआर से संबंधित हैं। ऐसे में विधानसभा उपचुनाव में गिरिपार के उम्मीदवार टिकट के लिए अपनी दावेदारी प्रबल मान रहे हैं। गिरिपार से इस बार भाजपा के टिकट की दौड़ में राजगढ़ क्षेत्र के ऐतिहासिक पझौता क्षेत्र के रासू मंदिर से संबंधित शिक्षा विभाग में पिछले करीब एक दशक से भी अधिक समय से शास्त्री के रूप में कार्यरत प्रेम सिंह कश्यप ने भी ताल ठोक दी है। पझौता के अलावा रासु मंदिर राजगढ़ क्षेत्र में समाजसेवी के रूप में प्रेम सिंह कश्यप पिछले कई सालों से कार्यरत हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता चंद्रमोहन ठाकुर व वर्तमान सांसद व पूर्व विधायक सुरेश कश्यप से भी उनके काफी नजदीकी संबंध बताए जाते हैं। यही नहीं राजगढ़ क्षेत्र से कर्मचारी वर्ग भी इस बार गिरिपार क्षेत्र से टिकट के लिए आवेदन कर चुके प्रेम सिंह कश्यप के समर्थन में बताए जा रहे हैं।