Tuesday, September 17, 2019 04:25 PM

पटरी पर लौटने लगी जिंदगी, 23 से फिर बारिश की संभावना

नालागढ़ -मूसलाधार बारिश से चारों ओर तबाही मचने के बाद अब जीवन फिर से पटरी पर आने लगा है, लेकिन आसमां पर बादलों का डेरा डालते ही लोग सहम उठते है। औद्योगिक क्षेत्र बीबीएन में इस मूसलाधार बारिश ने जहां पांच लोगों की जिंदगी ले ली है और दो घायल हुए, वहीं सरकारी व गैर सरकारी संपत्ति के अलावा उद्योगों को करोड़ों रुपए की चपत लगी है। बारिश ने ऐसी तबाही मचाई कि नालागढ़ बद्दी एनएच मार्ग पर बागवानियां पुल दरक गया, वहीं सड़कें क्षतिग्रस्त हुई है। लोनिवि के अधीन आने वाली 30 सड़कें आवाजाही के लिए पूरी तरह से बंद हो गई थी, वहीं परिवहन निगम की 30 बसें फंस गई थी। लोनिवि ने धीरे धीरे मशीनरी लगाकर अधिकांश सड़कें खोल दी है और कुमारहट्टी मित्तियां क्वारनी को मित्तियां तक खोल दिया है, जबकि दभोटा माजरा व मंझौली लखनपुर झीड़ा मार्ग की पुलियां टूटने से इनका कार्य किया जा रहा है। परिवहन निगम नालागढ़ डिपो की अधिकांश बसें लौट आई है और अब सिर्फ चार बसें ही फंसी है, लेकिन एचआरटीसी नालागढ़ डिपो के अभी भी 25 ट्रिप फेल हो रहे है, जिससे निगम को राजस्व के रूप में घाटा हो रहा है, वहीं लोगों को गंतव्य तक पहंुचने में परेशानी झेलनी पड़ रही है। एचआरटीसी नालागढ़ डिपो के तहत जोहड़जी, जयनगर उखू वाया भिंयूखरी, जयनगर वाया स्वारघाट और कैंथा रूटों पर गई बसें अभी तक फंसी हुई है, जबकि 25 ट्रिप प्रभावित हो रहे है। लोनिवि नालागढ़ मंडल के अधीन आने वाले शिमला-कुनिहार-रामशहर-नालागढ़, नालागढ़-बुवासनी, पनोह-बारियां-अल्यौण, गोलजमाला-गुज्जरहट्टी, कुमारहट्टी-क्वारनी, मस्तानपुरा-कोटला-कुंडलू, टिक्करी-बोहरी-अंब दा हार, मलाहला-कोटला, अंबवाला-रजवाहन, रामशहर-स्वारघाट, रामशहर-सुन्ना-नेरली, दभोटा-माजरा, लिंक-रोड़-हटड़ा, भाटियां-धुंधली, लेही-घरेड़, बरोटीवाला-बद्दी-रामशहर, शीतलपुर-नानोवाल, साई-बुवासनी, बागवानियां-सलेहड़ा-खेड़ा, नंदपुर-बसौला, लोदीमाजरा-खरियाणा, गुरूमाजरा-ढेला-कासला, ठेडा-रौंतावाला-जामन दा डोरा की सड़कें पूरी तरह से बंद हो गई थी, जिसमें से अधिकांश मार्गों को खोल दिया गया है। लोनिवि नालागढ़ मंडल के एसडीओ राजकुमार शर्मा ने कहा कि अधिकांश सड़कें खोल दी है, एचआरटीसी नालागढ़ डिपो के आरएम जोगिंद्र चौधरी ने कहा कि डिपो की फंसी हुई 30 बसों में से अब चार बसें ही वापस आने को है, लेकिन अभी पहाड़ी क्षेत्रों की सड़कें सही नहीं है, जिससे करीब 25 ट्रिप फेल हुए है। नौणी विवि के पर्यावरण विज्ञान विभाध्यक्ष एसके भारद्वाज ने कहा कि 23 अगस्त से मौसम में फिर से बदलाव होने और कहीं कहीं वर्षा होने की संभावनाएं है।