Sunday, November 17, 2019 03:37 PM

परोपकार के काम करने से मिलती है आत्मिक शांति

नाहन  - राष्ट्रीय सेवा योजना राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सराहां इकाई द्वारा सात दिवसीय विशेष शिविर का समापन हो गया। इस अवसर पर सेना शिक्षा कोर से सेवानिवृत्त व ‘दिव्य हिमाचल’ समाचार समूह सराहां के पत्रकार संजय राजन ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत करते हुए कहा कि स्वयंसेवियों द्वारा विद्यार्थी जीवन से ही समाज उपयोगी कार्योंं में सेवारत रहने से उनमें समाजसेवा व राष्ट्र सेवा के गुणों का विकास होता है। उन्होंने कहा कि परोपकार के कार्य करने से आत्मिक शांति मिलती है, जो कि व्यक्तित्व निर्माण में सहायक होती है। इस मौके पर सुरेश कुमार विशेष रूप से उपस्थित थे। कार्यक्रम का शुभारंभ स्वयंसेवी द्वारा एनएसएस गान गाकर किया गया। इस अवसर पर एनएसएस प्रभारी कृष्ण दत्त शर्मा ने एनएसएस के महत्त्व पर अपने विचार रखे तथा सात दिवसीय रिपोर्ट पढ़ी। सात दिनों में किए गए क्रियाकलापों की विस्तृत जानकारी प्रदान की गई। इन सात दिनों में एकता व अनुशासन में रहकर समय से सभी ने मिलजुल कर सामूहिक रूप से काम किया तथा बहुत से सामाजिक पहलुओं से रू-ब-रू हुए, जिसमें मिलजुल कर खाना बनाने की कला सीखना, सांस्कृतिक कार्यक्रम में सामूहिक नृत्य करना, बरतन धोने में सामूहिक रूप से कार्य करना, रिपोर्ट प्रस्तुत करना, इकट्ठे कमरे में रहना, सामूहिक भोजन करना आदि के साथ-साथ जीवन उपयोगी ज्ञान अर्जित किया। इस अवसर पर कैंप के दौरान अनुशासित रहने के लिए राजेश को पुरस्कृत किया गया। मेस के क्रियाकलापों में बढ़-चढ़कर भाग लेने के लिए त्रषभ व अर्पण को पुरस्कृत किया गया। वहीं अनीश के प्रयासों की भी सराहना की गई। छात्राओं में अनुशासन व मेस कार्य के लिए कंचन को पुरस्कृत किया गया। वहीं रिपोर्ट व कल्चर में अनीश व निकेश को पुरस्कार दिए गए। गु्रप वाइज प्रदर्शन में गु्रप-तीन को अनुशासन, गु्रप-एक को फील्ड वर्क, गु्रप-पांच को मेस कार्य में सर्वश्रेष्ठ कार्य करने पर पुरस्कृत किया गया। इस अवसर पर एनएसएस प्रभारी केडी शर्मा, महिला प्रभारी आशा रानी, धनी राम शर्मा, कपिल शर्मा सहित 50 स्वयंसेवी मौजूद थे।