Wednesday, August 12, 2020 05:31 AM

पहली बर्फबारी… मंडी से कटी 100 पंचायतें

मौसम के बिगड़े तेवरों से 50 से अधिक सड़कें अवरुद्ध, जिला के 1500 गांव हुए प्रभावित

मंडी - जिला के ऊपरी क्षेत्रों में भारी हिमपात का दौर शुरू हो गया है। गुरुवार को बर्फबारी के कारण जंजैहली, बालीचौकी, करसोग और द्रंग की 100 से अधिक पंचायतों का जिला मुख्यालय से संपर्क कट गया है। इन पंचायतों के करीब 1500 से अधिक छोटे और बड़े गांव बर्फवारी के प्रभावित हो गए हैं। उक्त क्षेत्रों में भारी बर्फबारी के चलते  लोगों का घरों से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। बर्फबारी के चलते ऊंचाई वाले इलाकों में सीजन की पहली भारी बर्फबारी दर्ज हुई और यह क्रम चला हुआ है। जारी बर्फबारी के चलते निचले इलाकों में भी शीतलहर का प्रकोप बढ़ गया है। ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी से कई संपर्क मार्ग और मुख्य सड़कें भी यातायात के लिए अवरुद्ध हो गई हैं। सराज के बालीचौकी विकास खंड में गाड़ागुशैणी, सुधराणी, थाटा और थाची में दर्जनों संपर्क मार्ग बंद हैं, जबकि जंजैहली में भुलाह से आगे शिकारी देवी मार्ग बंद हो गया है। थुनाग उपमंडल में गाड़ागुशैणी से टपनाली घाट, बिलागाड़ से मगरूगला, नगाण से छत्तरी, थाची से आगे डीडर, सुधराणी से थाटा, थाटा से समलवास और जंजैहली से छत्तरी मार्ग प्रमुख बस योग्य सड़क मार्ग यातायात के लिए बंद हो गए हैं। सूचना के मुताबिक इन इलाकों में बर्फबारी का क्रम जारी है और 50 से ज्यादा संपर्क सड़कें यहां बंद हो चुकी हैं, जिससे लोगों को इन गांवों तक पहुंचने के लिए पैदल सफर करना पड़ रहा है। हालांकि बिजली बाधित होने की अभी तक सूचना नहीं है, लेकिन पेयजल स्रोत जम गए हैं,  जिससे यहां पानी की किल्लत भी बढ़ गई है। सराज क्षेत्र में भुलाह और जंजैहली में बेसहारा पशुओं को लोगों ने ऊंचाई वाले इलाकों से नीचे मैदानी क्षेत्रों की ओर भेज दिया है, ताकि बर्फबारी में उनकी जान न जाए।