Friday, December 13, 2019 07:31 PM

पहाड़ों पर बर्फ, मैदानों में पहुंचे बेसहारा पशु

मनाली प्रशासन गंभीर, रांगड़ी में गोसदन के संचालन को बनाएंगे रणनीति

मनाली -बेसहारा पशुओं की व्यवस्था करने को लेकर मनाली प्रशासन गंभीर हो गया है। प्रशासन ने गोसदन की व्यवस्था व उसके संचालन को लेकर अगामी शुक्रवार को मिनी सचिवालय में बैठक रखी है। प्रशासन ने इस बैठक में सभी संगठनों के उपस्थित होने का आग्रह किया गया है। एसडीएम मनाली ने बीडीओ नग्गर सहित नायब तहसीलदार, पीडब्ल्यूडी, आईपीएच विभाग, वैटरिनरी, ईओ नगर परिषद, अध्यक्ष व उपाध्यक्ष व समस्त नगर परिषद सदस्य मनाली सहित जीएम गावर कंपनी रायसन, नग्गर खंड की समस्त पंचायतों के सचिव, होटल एसोसिएशन, फू्रट ग्रोवर, व्यपार मंडल, टैक्सी यूनियन, लग्जरी कोच, ट्रक व जीप यूनियन, मनाली बाइक एसोसिएशन, ऑटो यूनियन, गुड्स कैरियर, प्रेस क्लब, रोटरी क्लब, भारत विकास परिषद, नया सवेरा, सेव मनाली, सहारा एनजीओ, संत निरंकारी मिशन व राधा एनजीओ के सदस्यों को बैठक में बुलाया है। पहाड़ों पर बर्फबारी ब बारिश का क्रम शुरू होने से सैकड़ों बेसहारा पशु बाजार में आ गए हैं। बेसहारा पशुओं की समस्या को देखते हुए एक दशक पहले नगर परिषद मनाली के  प्रधान रूप चंद नेगी व उपप्रधान चमन कपूर ने प्रशासन की मदद से रांगड़ी में गोसदन का निर्माण कर इन पशुओं की व्यवस्था की थी। तब से प्रशासन व नगर परिषद मनाली सेव मनाली संस्था के युवाओं के साथ मिलकर समाजिक संगठनों व पंचायतों के सहयोग से गोसदन का संचालन करता आया है। इस बार धन की व्यवस्था न होने से प्रशासन को गोसदन का संचालन करने में दिक्कत आ रही है। गोसदन का कुछ भाग बरसात के दिनों में ब्यास में आई बाढ़ की भेंट चढ़ गया था, जिससे अब पशुओं को रखने में दिक्कत आ रही हंै। एसडीएम मनाली रमन घरसंगी ने बताया गोसदन के संचालन को सभी की मदद की जरुरत है। उन्होंने कहा कि 15 नवंबर को रांगड़ी में बैठक रखी गई है, जिसमंे गोसदन से जुड़े सभी संगठनों के प्रतिनिधियों को बुलाया गया है।