पहेलियां

रात दिन है मेरा

तुम्हारे घर में डेरा।

रोज मीठे गीत से

करती नया सवेरा।

2

पीपल की ऊंची डाली पर,

बैठी वह गाती है।

तुम्हें हमें अपनी बोली में

वह संदेश सुनाती है।

3

कमर कसकर बुढि़या रानी,

रोज सवेरे चलती है।

सारे घर में घूम-घूमकर

साफ.-सफाई करती है।

4

पानी का मटका

पेड़ पर लटका।

हवा हो या झटका

उसको नहीं पटका।

उत्तरः 1 .गौरेया 2.  चिडि़या , ३. झाड़ू, 4. टमाटर

Related Stories: