Sunday, November 17, 2019 03:09 PM

पांवटा में‘वे तू लौंग वे मैं लाची…’

पंजाबी सिंगर मन्नत नूर ने नचाए दर्शक, दलीप सिरमौरी और सोनू सुरजीत ने भी बांधा समां

पांवटा साहिब -पांवटा साहिब में आयोजित हुए तीन दिवसीय राज्य स्तरीय यमुना शरद महोत्सव की तीसरी व अंतिम सांस्कृतिक संध्या में लौंग लाची फेम पंजाबी मशहूर सिंगर मन्नत नूर ने दर्शकों को खूब नचाया। यू-ट्यूब पर अभी तक इस गाने को रिकार्ड 960 मिलियन दर्शकों द्वारा देखने के बाद पांवटा के लोगों को मन्नत नूर को रू-ब-रू परफार्म कर देखने का मौका मिला, जिस कारण हजारों की संख्या में दर्शक सांस्कृतिक संध्या में पहुंचे। उन्होंने जैसे ही अपना सुपसिद्ध लौंग लाची गाने की प्रस्तुति दी तो दर्शक दीर्घा सीटियों और तालियों से गूंज उठा। युवा अपने स्थान पर खड़े होकर झूमने लगे। इसके अलावा सिरमौर के लोकगायक दलीप सिरमौरी और पंजाबी सिंगर सोनू सुरजीत ने भी अपनी प्रस्तुति से दर्शकों का दिल जीत लिया। इससे पूर्व अंतिम सांस्कृतिक संध्या का जिलाधीश सिरमौर डा. आरके परुथी ने मां यमुना की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलित कर शुभारंभ किया। उसके बाद आयोजन समिति ने उन्हें शॉल, टोपी और स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इससे पूर्व स्थानीय कलाकारों में राजगढ़ के हाब्बी कला मंच ने डगाली यानी चुढैल नृत्य प्रस्तुत कर खूब वाहवाही लूटी। ज्यादातर दर्शक इस नृत्य को पहली बार देख रहे थे। दर्शकों ने गिरिपार क्षेत्र की परंपरा में शामिल इस नृत्य की खूब प्रशंसा की। उसके बाद कविता पुंडीर ने दिल मेरा मुफ्त का गीत गाया। इस दौरान स्टार नाइट के कलाकारों ने मंच संभाला। सबसे पहले साढ़े आठ बजे पंजाबी गायक सोनू सुरजीत मंच पर पहुंचे। उन्होंने ताकते रहते तुझको सांझ सवेरे, सानू इक पल चैन न आवे सजणा तेरे बिना, नच दी वे नचणा, कजरा मोहब्बत वाला, शार्प शूटरों ने कर दिया फेल मित्रों, कुड़ी आंखा नाल करदी शिकार आदि बेहतरीन नगमों की प्रस्तुति देकर दर्शकों को आनंदित किया। उसके बाद 8ः55 पर सिरमौर के प्रसिद्ध लोक गायक दलीप सिरमौरी ने मंच संभाला। उन्होंने सिरमौर के प्राचीन इतिहास को गिरियो रो पाणी रे केई तो शुको गीत के जरिये बताया। उसके बाद उन्होंने प्रसिद्ध गीत पिंक प्लाजो की महिला और पुरुष दोनों आवाज में शानदार प्रस्तुति देकर दर्शकों की तालियां बटोरी। उन्होंने पाणी री टांकी सहीरामो, बंदे ये पहाड़ी चले बडे टोर से, भिंडरू न माईओ मेरे जाणा चुरपुरा आदि गीत गाकर दर्श्रकों का खूब मनोरंजन किया। करीब 9ः20 बजे संध्या की मुख्य स्टार पंजाबी गायिका मन्नत नूर स्टेज पर पहुंची तो पूरा पंडाल तालियों और सीटियों से गूंज उठा। लौंग लाइची फेम इस गायिका ने अपने कार्यक्रम की शुरुआत शीशा गीत से की। उसके बाद कि मैं झांझरा मंगवाइयां, मैं तो पार्लर जाणेया, सूट सवा दे सोणेया आदि गीत गाए। करीब पौने 10 बजे दर्शकों की मांग पर उन्होंने आखिरकार अपना वो गाना गाया, जिसके लिए हजारों दर्शक पहुंचे थे। उन्होंने जैसे ही वे तू लौंग वे मैं लाची गीत की प्रस्तुति दी तो दर्शक बेकाबू हो गए। इस गीत पर ज्यादातर दर्शक झूमते नजर आए। ठीक 10 बजे कार्यक्रम का समापन हुआ। इस मौके पर वशिष्ट अतिथि एडिशनल एसपी सिरमौर वीरेंद्र ठाकुर, एसडीएम शिलाई योगेश चौहान, सीआरबी ललित, एसपी सिरमौर अजय कृष्ण शर्मा, डीएसपी पांवटा सोमदत्त, थाना प्रभारी संजय कुमार शर्मा, तहसीलदार व नायब तहसीलदार, नगर परिषद चेयरपर्सन कृष्णा धीमान, उपाध्यक्ष नवीन शर्मा, फूड इंस्पेक्टर श्याम भाटिया, आशा तोमर, चतर सिंह तोमर, शिवानी वर्मा, चरनजीत सिंह चौधरी, अतर सिंह नेगी, रण सिंह आदि भी मौजूद रहे।

दलीप सिरमौरी ने नचाए दर्शक

लंबे समय के बाद सिरमौर में अपना कार्यक्रम देने पहुंचे सिरमौर के प्रसिद्ध लोकगायक दलीप सिरमौरी ने भी दर्शकों को खूब झुमाया। उन्होंने सिरमौर के प्राचीन इतिहास को गिरियो रो पाणी रे केई तो शुको गीत के जरिए बताया। उसके बाद उन्होंने प्रसिद्ध गीत पिंक प्लाजो की महिला और पुरुष दोनों आवाज में शानदार प्रस्तुति देकर दर्शकों की तालियां बटोरी। उन्होंने पाणी री टांकी सहीरामो, बंदे ये पहाड़ी चले बडे टोर से, भिंडरू न माईओ मेरे जाणा चुरपुरा आदि गीत गाकर दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। उनके द्वारा महिला की आवाज में भी गाना गाए जाने से हर कोई प्रभावित हुआ। गौर हो कि दिलीप सिरमौरी ने बतौर कॉमेडियन अपने कैरियर की शुरुआत की थी और आज वह हिमाचल के प्रमुख लोक गायक के तौर पर उभरे हैं जो हिमाचल ही नहीं बल्कि उत्तराखंड मंे भी खासा प्रसिद्ध है।