Tuesday, September 25, 2018 01:24 PM

पीएमजीएसवाई में प्रदेश को तीन अवार्ड

शिमला —हिमाचल को पीएमजीएसवाई में उत्कृष्ठ कार्य के लिए तीन पुरस्कार मिले हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश को वर्ष 2017-18 के दौरान प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा विभिन्न तीन श्रेणियों में तीन पुरस्कार प्रदान किए गए हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव लोक निर्माण मनीषा नंदा ने मंगलवार को नई दिल्ली में केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से राज्य की ओर से ये पुरस्कार प्राप्त किए। इस दौरान मुख्य अभियंता पीएमजीएसवाई एके अबरोल भी उपस्थित रहे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को 2017-18 के दौरान गुणवत्ता के मामले में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए पुरस्कृत किया गया है और इसी अवधि के दौरान पीएमजीएसवाई के तहत हरित तकनीकी सहित अधिकतर सड़कों के निर्माण के लिए शीर्ष तीन स्थानों में आंका गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश को वर्ष 2017 में दुर्गम क्षेत्रों में सड़कों के निर्माण की क्षमता प्रदर्शित करने के लिए इंडिया टुडे ने सर्वोच्च स्थान पर आंका है। केंद्रीय ग्रामीण विकास राज्य मंत्री राम कृपाल यादव, सचिव ग्रामीण विकास अमरजीत सिन्हा, सभी राज्यों के पुरस्कार विजेता प्रतिनिधि तथा केंद्रीय मंत्रालय और हिमाचल प्रदेश ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित रहे।

1773 किलोमीटर सड़कें

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार द्वारा तय किए गए 1700 किलोमीटर लक्ष्य के मुकाबले राज्य में 1773 किलोमीटर सड़कों का निर्माण कर बस्तियों को कनेक्विटी प्रदान की गई है। हरित तकनीक के तहत 72 किलोमीटर सड़कों का निर्माण किया गया है।

2400 किलोमीटर लक्ष्य

राज्य ने 2017-18 के दौरान लक्ष्य से अधिक उपलब्धि हासिल की है, इसलिए राज्य को दिए गए लक्ष्य को इस वर्ष 1700 से बढ़ाकर 2400 किलोमीटर कर दिया गया है, जो राज्य के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। एक हजार से अधिक आबादी की 59 बस्तियों को सुविधा प्रदान करने के लिए 1214 नई सड़कों का निर्माण किया गया। बारह बस्तियां जिनकी जनसंख्या 500 से 999 के बीच में है तथा 43 बस्तियां, जिनकी जनंसख्या 249 से 500 के बीच हैं, को भी सड़क कनेक्टिविटी प्रदान की गई है।

पूरा करेंगे लक्ष्य

अतिरिक्त मुख्य सचिव मनीषा नंदा ने आश्वास्त किया कि विभाग इस वर्ष भी विभिन्न लक्ष्यों को हासिल करने के लिए पुरजोर प्रयास करेगा तथा लोगों की सेवा करने के अतिरिक्त प्रदेश को भी गौरवान्वित करेगा।