Monday, October 21, 2019 07:39 AM

पीस मील वर्कर्ज ने बजाया संघर्ष का बिगुल

मंडी—हिमाचल परिवहन तकनीकी कर्मचारी संगठन मंडी इकाई की आपात बैठक कार्यशाला में संपन्न हुई। इसकी अध्यक्षता संगठन के जिला प्रधान सुमन पठानिया ने की। बैठक में परिवहन निगम की दुर्दशा एवं पीस मील वर्कर्ज की अनदेखी पर चर्चा हुई। इसके बाद एकमत से प्रस्ताव पारित किया गया 19 जुलाई से कर्मचारी मांगों को लेकर संघर्ष का बिगुल बजा देंगे। पहले एक सप्ताह तक काले बिल्ले लगाकर सरकार को चेताया जाएगा। सरकार व प्रशासन उनकी मांगों के संबंध में कोई निर्णय नहीं लेता तो भूख हड़ताल शुरू की जाएगी। यही नहीं धरने प्रदर्शन किए जाएंगे और निगम के अधिकारियों का घेराव भी किया जाएगा। अध्यक्ष सुमन पठानिया ने बताया कि निगम की वर्कशाप पीस मील व तकनीकी कर्मचारियों के दम पर चल रही है, लेकिन सरकार इन कर्मचारियों की अनदेखी कर रही है। रोजगार के नाम पर पीस मील कर्मचारियों को ठगा जा रहा है। उन्हें प्रतिमाह 1000 व 1200 रुपए मजदूरी दी जा रही है, जो सरकार के कर्मचारी हितैषी होने का दावा पूर्णतया झूठा साबित करता है। बैठक में यह भी निर्णय लिया कि जब तक सरकार उनकी मांगें पूरी नहीं करती, आंदोलन जारी रहेगा। वह किसी भी कीमत पर अपने आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगे। अब सरकार से आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी कर्मचारी एकजुट हैं। निगम प्रबंधन सरकार पीस मील कर्मचारियों के हित में कोई ठोस फैसला नहीं लेते, सभी मिलकर आंदोलन करेंगे। उन्होंने सरकार से मांग की है कि पीस मील वर्कर्ज के लिए ठोस नीति बनाई जाए। बैठक में रजत रावतए लाभ सिंहए योगेश कुमार,  टेकचंद, बलदेव, मुकेश, सीताराम, आशु कुमार, दिनेश कुमार, अमर चंद, अमित कुमार आदि मौजूद रहे।