Friday, December 13, 2019 07:37 PM

पुल के अधूरे काम से लोग परेशान

 जोगल खड्ड में किनारों पर पिल्लर खड़े कर सात साल में पूरा नहीं किया काम

कांगड़ा -जोगल खड्ड पर अधूरे पुल ने ग्रामीणों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। बरसात होने पर यहां स्कूली बच्चों व अन्य लोगों को खतरों का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन सरकारी तंत्र मूकदर्शक बनकर बैठा है। जिला कांगड़ा के नगरोटा बगवां विधानसभा क्षेत्र के तहत आने वाली ग्राम पंचायत मलां के टीका बमनेहड़ वार्ड नंबर पांच में जोगल खड्ड पर पिछले सात साल से पुल के अधूरे कार्य को लेकर गांववासी परेशान है। नगरोटा बगवां विधानसभा एवं ब्लाक के तहत आने वाली पंचायत मंला के वार्ड नंबर पांच में बह रही जोगल खड्ड पर मनरेगा के तहत आज से लगभग सात साल पहले पुल के निर्माण के लिए इस खड्ड के दोनों किनारों पर सिर्फ पिल्लर ही बने हुए हैं। उसके बाद आज तक इन पिल्लरों के ऊपर सीमेंट का पक्का स्लैब नहीं डाला गया। जिसके कारण वार्ड नंबर पांच के सभी लोगों को जोगल खड्ड के बीच से गुजरना पड़ता है। बरसात के दिनों में भारी बारिश के कारण यह खड्ड रोद्र रूप धारण कर लेती है, लिहाजा बरसात के दिनों में इस खड्ड को पार करना अपनी जान जोखिम में डालने के बराबर है। ध्यान देने योग्य बात यह है कि मलां पंचायत के वार्ड नंबर पांच में बह रही जोगल खड्ड से होकर यह रास्ता गढ़माता मंदिर को जाता है। सभी गांववासियों के अलावा अन्य दूरदराज के क्षेत्रों के लोग भी इस रास्ते से होकर ही गढ़ माता मंदिर को पैदल जाते हैं। यह रास्ता पखलू बस्ती से होकर गुजरता है। इस बस्ती के लोग पशुओं को चराने, पशुओं के लिए घास काटने, के लिए जोगल खडु के बीच से होकर गुजरना पड़ता है। कुछ ग्रामीणों के लगभग आठ-दस घर भी जोगल खड्ड के पार हंै। इन लोगों का भी हर दिन इस रास्ते से होकर आना-जाना लगा रहता है। लेकिन बरसात के दिनों में खड्ड पूरी उफान पर हो जाने से लोग अपनी जान जोखिम में डालकर पार करते हंै, जिससे हर समय अनहोनी होने का अंदेशा बना रहता है। जोगल खड्ड पर पुल के अधूरे पड़े काम को आज तक पूरा करने के लिए न तो मलां पंचायत और न ही सरकारी तंत्र ने जहमत उठाई है। मलां पंचायत के वार्ड नंबर पांच के स्थानीय लोगों सतीश कुमार, होशियार सिंह, रोशन लाल, जगदीश चंद, देशराज, कर्म चंद, भीखम सिंह व अन्य लोगों ने बताया कि जोगल खड्ड पर पुल के अधूरे कार्य को पूरा करने के लिए मलां पंचायत को कई बार अवगत करवाया गया, लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। लोगों ने स्थानीय विधायक और मुख्यमंत्री से जोगल खड्ड पर बने पुल के अधूरे कार्य को पूरा करने की गुहार लगाई है। ताकि लोगों को आने जाने में सुविधा मिल सके।