Thursday, July 09, 2020 07:20 PM

पेट रोग के घरेलू उपचार

काम के चलते सही समय पर खाना न मिलने और भूख के लगने पर कुछ भी खा लेने से पेट की बामारियों में इजाफा हो रहा है। जैसा कि सभी जानते हैं कि पेट की बामारियां कई अन्य बीमारियों की जनक होती हैं। वहीं, यदि आपका पेट सही है तो अन्य बीमारियों के होने का खतरा कम रहता है। अब सवाल है कि पेट की बीमारियों से कैसे बचा जाए।

एसिडिटी

मसालेदार और वसायुक्त भोजन करने से एसिडिटी होने लगती है। विशेषज्ञों का मानना है कि एसिडिटी का एक कारण तनाव लेना भी है।

उपचार

सुबह उठने के बाद पानी पिएं। इसके अलावा रोज खाने के साथ केला, तरबूज, पपीता और खीरा खाएं। एसिडिटी के उपचार में तरबूज का रस फायदा करता है। नारियल पानी पीने से भी एसिडिटी से निजात मिलती है।

गैस की समस्या

अधिक समय तक खाना न मिलने से पेट में गैस की समस्या हो जाती है और पेट में दर्द भी होने लगता है। पेट में गैस बनना शरीर के बाकी अंगों के लिए काफी खतरनाक होता है।

उपचार

गैस की शिकायत होने पर ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए। वहीं, गैस को ठीक करने के लिए एक नींबू के रस में दो चम्मच पानी और स्वादानुसार काला नमक मिलाकर चुटकीभर खाने का सोडा मिलाकर पिएं। इसके अलावा गैस से राहत पाने के लिए पवन मुक्त आसन करना बहुत लाभदायक है।

कब्ज

कब्ज पानी के कम सेवन करने या भोजन में फैट की कमी से होता है। कब्ज की समस्या होने पर भूख नहीं लगती और शौच में समस्या होती है।

उपचार

कब्ज से छुटकारा पाने के लिए दूध और पपीते का इस्तेमाल करना चाहिए। रात को सोते समय गुनगुने पानी से त्रिफला चूर्ण खाने से कब्ज की समस्या में राहत मिलती है।

उल्टी

बार-बार उल्टी आना और जी मिचलाना पेट में रोग का कारण हो सकता है।

The post पेट रोग के घरेलू उपचार appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.