Saturday, April 20, 2019 02:24 PM

पोस्टर-बैनर-होर्डिंग लगाने पर लेनी पड़ेगी परमिशन

ऊना—लोकसभा चुनाव के दौरान राजनीतिक दल व उम्मीदवारों को विज्ञापनों का प्रसारण करने से पहले मीडिया प्रमाणन व निगरानी समिति (एमसीएमसी) से अनुमति लेना आवश्यक है। चुनाव से जुड़ा कोई भी संदेश व विज्ञापन समिति की अनुमति के बिना चलाने पर इसे आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा। समाचार पत्रों में चुनावी विज्ञापन प्रकाशित करने से पहले इसकी स्वीकृति लेना आवश्यक है। उम्मीदवार को केबल टीवी अथवा रेडियो पर प्रसारित होने वाली प्रचार सामग्री की भी अनुमति लेनी होगी। यही नहीं प्रचार से संबंधित कोई भी पोस्टर, बैनर व होर्डिंग भी बिना इजाजत लगाए नहीं जा सकते। मीडिया प्रमाणन व निगरानी समिति से अनुमति प्राप्त करने के बाद ही प्रचार सामग्री प्रकाशित की जा सकती है। जिला निर्वाचन अधिकारी राकेश कुमार प्रजापति ने कहा कि राजनीतिक दलों द्वारा भेजे जाने वाले बल्क एसएमएस या फिर वॉइस मैसेज की भी निगरानी की जाती है। उम्मीदवार के लिए एसएमएस या वॉइस मैसेज की प्री-सर्टिफिकेशन कराना आवश्यक है।उन्होंने कहा कि जिला लोक संपर्क अधिकारी कार्यालय में मीडिया प्रमाणन व निगरानी समिति बनाई गई है। किसी भी प्रचार सामग्री का प्रसारण करने से तीन दिन पहले समिति के सामने विज्ञापन सामग्री की दो प्रतियां प्रस्तुत करनी होगी। जिला निर्वाचन अधिकारी व उपायुक्त राकेश कुमार प्रजापति ने बताया कि यदि कोई भी राजनीतिक दल का प्रत्याशी नियमों की अवहेलना करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।