Tuesday, July 07, 2020 06:28 PM

प्रदेश के अनलॉक होते ही दौड़ी बसें, लॉकडाउन के चलते 72 दिन बाद 2222 रूटों पर चलीं एचआरीटसी की गाडि़यां

शिमला – हिमाचल प्रदेश में सवा दो माह बाद यानी 72 दिनों के बाद एचआरटीसी बस सेवा आरंभ हो  गई है। एचआरटीसी  द्वारा लंबे अंतराल के बाद सोमवार को 2222 रूटों पर जनता को बस सेवा प्रदान की गई। सड़कों पर सुबह सात से शाम सात बजे तक निगम की बसें दौड़ती नजर आईं। पहले दिन राज्य के विभिन्न रूटोें पर निजी बसोें का कम ही संचालन हुआ। ऐसे में परिवहन सेवा का सारा दारोमदार एचआरटीसी पर दिखा। निगम द्वारा सुबह सात बजे से पूरी तैयारी के साथ बसों का संचालन शुरू कर दिया गया था। हालांकि सुबह के समय निगम बसों में भी यात्रियों की संख्या कम रही, मगर दोपहर बाद निगम की बसों में यात्रियों की संख्या बढ़नी शुरू हो गई थी। निगम प्रबंधन द्वारा राज्य सरकार के निर्देशों के तहत पहली जून से बस सेवा आरंभ करने निर्र्णय के बाद पहले से ही बसों की संचालन की तैयारियां कर ली गई थी। निगम प्रबंधन द्वारा पहलें दिन  2800 रूटों पर जनता को बस सेवा उपलब्ध करवाने का प्लान तैयार किया गया था। हालांकि पहले दिन निगम द्वारा 2222 रूटों पर बस सेवा प्रदान की गई, मगर मंगलवार को 2800 रूटों पर परिवहन सेवा उपलब्ध करवाने का दावा किया जा रहा है। बसोें को रूटों पर भेजने से पहले सेनेटाइज किया गया। सुरक्षा के मद्देनजर बसों में तैनात चालक व परिचालकों कोे फेस मास्क, फेस  शील्ड, सेनेटाइजर व दस्तानों के साथ बसों में तैनात किया गया था। वहीं, स्वास्थ्य विभाग के द्वारा यात्रियों का स्वास्थ्य निरीक्षण किया गया। राज्य में पहले दिन निजी बसें कम ही संख्या में चलीं। राज्य में 3100 बसों में से केवल मात्र 200 ही बसें चल पाइर्ं। निजी बसोें के कम संचालन होने से परिवहन का सारा दारोमदार पथ परिवहन पर दिखा।

अफसर मौके पर पहुंचे

सोमवार को एचआरटीसी के प्र्रबंध निदेशक, कार्यकारी निदेशक, मंडलीय प्रबधक, क्षेत्रीय प्रबंधक से लेकर निचले स्तर तक के अधिकारी बस अड्डोें पर व्यवस्था बनाने और बसों के संचालन के लिए सभी अधिकारी बस अड्डों पर तैनात रहे।

पुलिस जवान मुस्तैद

हिमाचल प्रदेश के अधिकतर रूटों पर व अड्डों पर पुलिस जवान तैनात दिखे। इस दौरान जवानों बसों में सोशल डिस्टेंसिंग का  पालन करवाते हुए देखा गया। पुलिस जवानों ने यात्रियों को सफर से पहले आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

ऐसे चढ़े-उतरे यात्री

बसों में चढ़ने व उतरने के लिए पहले से ही नियम निर्धारित किए गए थे। यात्री  बसों में अगले ही दरवाजे से चढ़े व उतरे। कुछ सीटों को नॉॅट-टू-बी यूज्ड स्टिकर लगाया गया था। तीन सीटों पर दो ही यात्रियों को बैठने दिया गया, जबकि दो सीटों  पर एक ही यात्री को बैठने दिया गया। बसें निर्धारित ठहराव में खड़ी हुई। जिन बसोें में 60 फीसदी यात्री  थे, वे बसें तुरंत रूटों पर सरपट दौड़ती नजर आई।

आज 2800 रूटों पर गाडि़यां दौड़ाने की तैयारी

पहले दिन 2222 रूटों पर सेवा जनता को बस सेवा प्रदान की गई।  परिवहन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि  शाम चार बजे तक निगम 1500 रूटों पर बसें चला चुका था। मंगलवार को निगम राज्य मेें 2800 रूटों पर जनता को परिवहन सेवा उपलब्ध करवाएगा। परिवहन मंत्री गोविंद  सिंह ठाकुर ने जनता से आग्रह किया है कि अगर बहुत जरूरी  हो, तभी सफर करें। किसी भी अनावश्यक यात्रा से बचें। बिना मास्क के बसों में सफर न करें।

The post प्रदेश के अनलॉक होते ही दौड़ी बसें, लॉकडाउन के चलते 72 दिन बाद 2222 रूटों पर चलीं एचआरीटसी की गाडि़यां appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.