Saturday, April 20, 2019 02:27 PM

प्रदेश में 2020 से रूसा-थ्री सिस्टम

नीति आयोग की टीम जल्द करेगी हिमाचल का दौरा, नियम बदलेंगे

 शिमला —हिमाचल प्रदेश के कालेजों में वर्ष 2020 में अब रूसा-थ्री सिस्टम शुरू होगा। इस सिस्टम के तहत कालेजों में छात्रों को नए नियमों और नए सिलेबस के तहत पढ़ाई करवाई जाएगी। नीति आयोग ने उच्च शिक्षा निदेशक को रूसा-थ्री सिस्टम के तहत कार्य करने के निर्देश जारी कर दिए हैं। बताया जा रहा है कि नीति आयोग की टीम इसी साल हिमाचल के दौरे पर आ रही है। हिमाचल में रूसा के तहत छह साल में उच्चतर शिक्षा में कितना विकास हुआ है, इस पर रिपोर्ट तैयार की जाएगी। वहीं, रूसा-टू के तहत प्रदेश के कालेजों में इन्फ्रास्ट्रक्चर की सुविधा दी गई है या नहीं, इसको भी चैक किया जाएगा। इस दौरान कक्षाओं में जाकर भी निरीक्षण किया जाएगा। कालेज में पढ़ने वाले छात्रों का समझने का स्तर कितना है, यह भी देखा जाएगा। नीति आयोग की टीम इसी आधार पर रूसा-थ्री सिस्टम में नियमों को बनाएगी। उन नियमों में वे योजनाएं शामिल की जाएंगी, जिनका रूसा-वन और टू में विकास नहीं हुआ होगा। हिमाचल में भी इस साल अगस्त के बाद नीति आयोग की टीम कभी भी दस्तक दे सकती है। उल्लेखनीय है कि उच्च शिक्षा निदेशक अमरजीत शर्मा ने दिल्ली में नीति आयोग के साथ बैठक की है। इस बैठक में आयोग ने उच्च शिक्षा निदेशक को निर्देश दिए हैं कि उच्च शिक्षा अभियान के तहत प्रदेश में जो कार्य नहीं हो पाया है, उसकी अलग से रिपोर्ट तैयार की जाए। सूत्रों की मानें तो रूसा-थ्री के बाद प्रदेश के कालेजों को रूसा के तहत मिलने वाले बजट में भी बदलाव होगा। छह साल से रूसा के तहत जिस योजना पर कालेजों में कार्य हो चुका होगा, उस पर एमएचआरडी ग्रांट नहीं देगी। इसकी जगह दूसरी योजना के तहत नई ग्रांट शुरू की जाएंगी। बता दें कि वर्ष 2013 में हिमाचल में भी रूसा प्रणाली लागू की गई थी। 2016 तक प्रदेश में रूसा वन के तहत कार्य हुआ, 2016 के बाद रूसा-टू शुरू होने के बाद अब 2020 में हिमाचल में रूसा-थ्री के तहत उच्चतर शिक्षा में गुणवत्ता लाने का सुधार होगा।

बजट न खर्चने वाले कालेजों पर कार्रवाई

रूसा के तहत एमएचआरडी से मिले बजट को अगर छह साल में कालेजों ने सही खर्च नहीं किया होगा, तो ऐसे में कालेज प्रशासन की क्लास भी लग सकती है। नीति आयोग की टीम कालेजों को दिए गए बजट की हर ग्रांट का यूसी चैक करेगी।