Monday, July 22, 2019 01:12 PM

प्रदेश से बाहर भी है रोजगार

ठाकुर तारा, सुंदरनगर

हिमाचल प्रदेश का युवा पढ़ा-लिखा है, ऐसे में  शिक्षा प्राप्त कर केवल प्रदेश में ही रोजगार खोजना कतिपय सही नहीं है। मात्र राज्य सरकार से नौकरी की आस लगाए रखना एक दिवास्वप्न की भांति है। इसलिए युवाओं को प्रदेश से बाहर रोजगार के विकल्प तलाशने चाहिएं। रोजगार के क्षेत्र में आने वाली मुख्य अड़चन जानकारी का अभाव है। शिक्षित सभी हैं, परंतु तहसीलदार, नायब तहसीलदार, बीडीओ इत्यादि वर्ग के लिए सरकार नाम मात्र के 10-15 पद निकालती है। थोड़े से पदों के लिए लाखों युवा आस लगाए रखते हैं। बेरोजगारी का दोष केवल राज्य सरकार के ऊपर मढ़ना सही नहीं है। सरकारी क्षेत्र में नौकरी प्राप्त करने के लिए जी तोड़ मेहनत करके राज्य के युवा अखिल भारतीय स्तर पर अपना स्तर बढ़ा सकते हैं। बेरोजगारी को खत्म करके नशे और अपराधों पर रोक लगाई जा सकती है।