Monday, June 01, 2020 02:25 AM

प्रधान नहीं, अधिकारी लगाएं ड्यूटियां 

हिमाचल प्रदेश राजकीय अध्यापक संघ कांगड़ा ने उठाई आवाज, फैसले का विरोध

ज्वालामुखी-हिमाचल प्रदेश राजकीय अध्यापक संघ  जिला कांगड़ा के प्रधान नरदेव सिंह ठाकुर, महासचिव सुमन कुमार, वित्त सचिव राम स्वरूप  व समस्त जिला कार्यकारिणी ने संयुक्त वक्तव्य में कहा कि कोरोना महामारी के इस विकट समय में शिक्षकों की संस्थागत क्वारंटाइन केंद्रों में ड्यूटी दे रहे हैं और इस महामारी से लड़ने में सरकार के साथ खडे हैं। संघ के ध्यान में आया है कि कुछ पंचायत प्रधान शिक्षकों की ड्यूटियां क्वारंटाइन केंद्रों पर लगा रहे हैं, जो कि संघ को बिलकुल भी मान्य नहीं है और हिमाचल राजकीय अध्य्यापक संघ  इसका कड़ा विरोध करता है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि यदि संस्थागत क्वारंटाइन केंद्रों में अध्यापकों की सेवाएं लेनी है, तो उपमंडलाधिकारी या विभागीय अधिकारियों से ही  ड्यूटियां लगाई जाएं न कि पंचायत प्रधानों द्वारा। हिमाचल प्रदेश राजकीय अध्यापक संघ  जिला कांगड़ा  के प्रधान नरदेव सिंह ठाकुर,  महासचिव सुमन कुमार, वित्त सचिव राम स्वरूप, राज्य पैटर्न सरोज मेहता, राज्य चेयरमैन सचिन जसवाल, राज्य वरिष्ठ उपप्रधान अजय शर्मा, गोविंद्र पठानिया, जिला वरिष्ठ उपाध्यक्ष निर्मल ठाकुर, मुख्य सलाहकार सतीश राणा व राजेश ठाकुर, खंड देहरा के प्रधान सुशील ठाकुर व वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रवीण शर्मा, खंड पंचरुखी के प्रधान कुशल राणा, खंड पालमपुर के प्रधान नागेश्वर पठानिया, खंड डाडासीबा के प्रधान अश्वनी सिपहिया, खंड धर्मशाला के प्रधान जीएस डढवाल, खंड रक्कड़ के प्रधान कुलदीप राणा, खंड बैजनाथ के प्रधान अनिल सुग्घा, खंड लंबागांव के प्रधान हंसराज राणा, खंड चढियार के प्रधान अरुण कुमार, खंड नूरपुर के प्रधान विपिन चौधरी, खंड इंदौरा के प्रधान यशपाल, खंड जवाली के प्रधान विकास नंदा, खंड नगरोटा सूरियां के प्रधान भारत भूषण, खंड फतेहपुर के प्रधान सचिन, खंड भवारना के प्रधान अजय शर्मा, खंड राजा का तालाब के प्रधान विवेक शर्मा, प्रेस सचिव शाशिकांत गौतम, राजेश सूर्यवंशी व समस्त जिला कार्यकारिणी ने एक संयुक्त बयान में कहा है।