Tuesday, September 17, 2019 03:46 PM

फिर शुरू हुई मणिमहेश यात्रा

मौसम साफ होते ही प्रशासन ने यात्रा को दिखाई हरी झंडी

भरमौर - तीन दिन भारी बारिश होने के बाद बुधवार को मौसम साफ होते ही प्रशासन ने मणिमहेश यात्रा फिर शुरू करने को मंजूदी दे दी है। बारिश-भू स्खलन के कारण बंद हुई सड़कों पर बुधवार को आवाजाही भी शुरू हो गई। इसके साथ ही बाजारों में शिव भक्तों के जत्थे भी दिखने लगे हैं

चंबा - मौसम से बिगडे़ हालातों के सामान्य होने के साथ ही प्रशासन ने विश्वप्रसिद्ध मणिमहेश यात्रा पर लगी रोक को हटा दिया है। इसके साथ ही मणिमहेश के पवित्र डल में डुबकी लगाने के लिए श्रद्धालुओं की आवाजाही शुरू हो गई है। बुधवार को काफी तादाद में श्रद्धालु जिला मुख्यालय से वाहनों के जरिए मणिमहेश की ओर रवाना हुए। मणिमहेश यात्रा पर रोक हटने के साथ ही विभिन्न जगहों में फंसे श्रद्धालुओं ने राहत की सांस ली है। जानकारी के अनुसार बारिश के खराब बिगडे़ हालात के चलते जिला प्रशासन ने एहतियात के तौर पर मणिमहेश यात्रा को दो दिन के लिए स्थगित कर श्रद्धालुओं को सुरक्षित जगह ठहरने को कहा था। इसके चलते पिछले दो दिन से श्रद्धालु मणिमहेश यात्रा पर लगी रोक के हटने का इंतजार कर रहे थे। मौसम साफ होते ही मणिमहेश के पैदल रास्ते की मरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर आरंभ कर दिया गया। मणिमहेश यात्रा के तमाम रास्तों के बेहतर और रास्ते में पड़ने वाले नालों का जलस्तर कम होते ही प्रशासन ने अब श्रद्धालुओं को हड़सर से आगे के सफर पर जाने की इजाजत दे दी है। बुधवार को हजारों की तादाद में श्रद्धालु हड़सर से मणिमहेश झील में डुबकी लगाने के लिए कूच कर गए हैं। उल्लेखनीय है कि जन्माष्टमी के 24 अगस्त के छोटे न्हौण को लेकर देश के विभिन्न हिस्सों से पवित्र डल में डुबकी लगाने के लिए श्रद्धालुओं के लिए आवाजाही में काफी बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। मणिमहेश यात्रा के लिए श्रद्धालुओं की आवाजाही बढने से चंबा शहर भी शिवभक्ति रस में डूब कर गया है। उधर, डीसी विवेक भाटिया ने बताया कि मणिमहेश यात्रा पर रोक हटाने के साथ ही श्रद्धालुओं को आगामी यात्रा पर निकलने के लिए अनुमति दे दी गई है।