Friday, September 20, 2019 12:13 AM

 फीस कम करो

सुदर्शन अवस्थी, नोएडा, दिल्ली

भारत सरकार ने खेलों को पो्रमोट करने के लिए देश भर में ‘खेलो इंडिया’ अभियान चलाया हुआ है, ताकि प्रतिभावान खिलाड़ी प्रदेश-देश का नाम रोशन कर सकें । परंतु स्पोर्ट्स क्लबों एवं खेल प्राधिकरणों द्वारा फीस बढ़ाकर इस योजना को पलीता लगाया जा रहा है। बैडमिंटन खेल में 10 से 15 हजार की रकम ली जा रही है गरीब आदमी हजारों रुपए की फीस कहां से दे पाएगा? बच्चों के पेरेंट्स स्कूल की फीस दें, उनका लालन-पालन करें या स्पोर्ट्स-क्लबों की फीस की मोटी रकम अदा करें। दिल्ली में स्थित जितने भी स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स हैं, उनकी फीस हजारों में है, जो गरीब एवं मध्यम वर्ग के लिए भारी पड़ता है। हमारा सरकार से अनुरोध है कि स्पोर्ट्स क्लबों की फीस को कम किया जाए, जिससे साधारण लोगों के बच्चे भी आगे बढ़ सकें।