Thursday, November 14, 2019 02:20 PM

फूलों की मोटी कमाई कर रहे त्यार के दीना नाथ

ऊना -हिमाचल प्रदेश सरकार की पुष्प क्रांति योजना के अंतर्गत पोलीहाउस लगाकर जिला ऊना के त्यार निवासी किसान दीनानाथ सालाना लाखों रुपए की कमाई कर रहे हैं। सरकार की योजना का लाभ लेकर 69 वर्षीय दीना नाथ ने वर्ष 2017 में 1000 वर्ग मीटर में लगभग 6000 जरबेरा के पौधे लगाकर फूलों की खेती शुरू की। अब वह सालाना लगभग 2.50 लाख फूल बाजार में बेच रहे हैं। अपने पहले पोलीहाउस की कामयाबी से गदगद दीना नाथ ने एक हजार वर्ग मीटर में दूसरा पोलीहाउस भी लगा लिया है। इसमें फूलों का उत्पादन भी शुरू हो गया। उन्होंने बताया कि वह जरबेरा फूल एचआरटीसी बसों के माध्यम से चंडीगढ़ तथा दिल्ली की मंडियों में भेजते हैं। दीनानाथ का कहना है कि फूलों की खेती से परिवार को अच्छी आमदनी हासिल हो रही है। यहीं वजह है कि उनका 34 वर्षीय बेटा हरीश कुमार एमबीए करने के बाद फूलों की खेती में रुचि दिखा रहा है। बेटे की इच्छा के अनुसार ही उन्होंने अब दूसरा पोलीहाउस लगा लिया और वह आगे भी इसका विस्तार करना चाहते हैं। किसान दीना नाथ का कहना है कि पोलीहाउस लगाने के लिए हिमाचल प्रदेश सरकार की ओर से उन्हें 85 प्रतिशत सबसिडी प्रदान की गई। साथ ही उद्यान विभाग की ओर से उन्हें समय-समय पर तकनीकी सहायता भी प्रदान की जाती है। विभाग के विशेषज्ञ उन्हें दवाओं से लेकर खाद के प्रयोग के बारे में बताते हैं और प्रशिक्षण के साथ-साथ एक्सपोजर विजिट पर भी ले जाया जाता है। फूलों की खेती में इस्तेमाल होने वाले पावर स्प्रेयर की खरीद पर भी उन्हें सबसिडी मिली है। त्यार निवासी दीना नाथ ने कहा कि पोलीहाउस तकनीक की मदद से फसलों की उत्पादकता एवं गुणवत्ता बढ़ जाती है। साथ ही तापमान को नियंत्रित कर तथा संरक्षित वातावरण में किसी भी स्थान पर साल भर खेती संभव है और इस तकनीक के माध्यम से बहुत कम क्षेत्र में फसल का बेहतर उत्पादन कर अच्छी कमाई की जा सकती है। ड्रिप के माध्यम से ही पौधों को पानी तथा खाद दी जाती है, जिससे पानी की बचत भी होती है। वहीं, उद्यान विभाग के उप-निदेशक डा. सुभाष चंद ने कहा कि पुष्प क्रांति योजना के तहत सरकारी मदद प्राप्त करने के लिए उद्यान विभाग के कार्यालय में संपर्क किया जा सकता है। पुष्प क्रांति योजना में उच्च तकनीक वाले पोलीहाउस लगाने के लिए वित्तीय मदद प्रदान की जाती है। विभाग पोलीहाउस लगाने में रुचि रखने वाले किसानों को प्रशिक्षण के साथ-साथ हर संभव मदद प्रदान करता है। जिला ऊना में  50 हेक्टेयर भूमि में गुलाब, जरवेरा आदि फूलों की खेती की जा रही है। वहीं, ग्र्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री वीरेंद्र कंवर ने कहा कि सरकार किसानों की आय को दोगुना करने का प्रयास कर रही है। पुष्प क्रांति योजना के जरिए युवा किसान फूलों की खेती करके अच्छी कमाई कर सकते हैं।