Monday, April 06, 2020 06:41 PM

फॉरेन रिटर्न बन गए जान के दुश्मन

बिलासपुर में आज आएगी कोरोना संग्दिध की रिपोर्ट, 30 लोग अंडर आब्जर्वेशन

बिलासपुर-कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में अनिश्चितकालीन के लिए लॉकडाउन की घोषणा करने के बाद अब लोगों को आगामी आदेशों तक अपने घर पर ही रहना होगा। स्वास्थ्य संबंधी, ब्रेड, दूध, फल, सब्जी, राशन और फिर यदि बहुत की जरूरत हो तभी घर से बाहर केवल एक व्यक्ति को ही निकलने की अनुमति होगी। कहीं भी भीड़ जमा होने पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। किसी भी प्रकार की परेशानी पर उपायुक्त कार्यालय में बनाए गए कंट्रोल रूम के टोल फ्री नंबर 1077, स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी 104 और पुलिस से संबंधित शिकायत पर तत्काल 112 नंबर पर डायल कर सकते हैं। यह खुलासा बिलासपुर के जिलाधीश राजेश्वर गोयल ने सोमवार सायं प्रेस ब्रीफिंग में किया है। उन्होंने बताया कि बिलासपुर जिला में नौ मार्च के बाद अभी तक विदेशों से 44 लोग लौटे हैं जिनमें से 14 की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है और शेष 30 की निगरानी की जा रही है। इनमें से आईसोलेशन वार्ड में रखे गए दो में से एक संदिग्ध एक की रिपोर्ट नेगेटिव आई है, जबकि दूसरे की मंगलवार तक आ जाएगी। उन्होंने बताया कि जिला में आईसोलेशन वार्ड बनाए गए हैं जिसके तहत बिलासपुर अस्पताल में 20 बेड और घुमारवीं में दस बेड हैं। इसके अलावा निगरानी के लिए अलग से भी उपयुक्त व्यवस्था की गई है, जिसके तहत सीएचसी मार्कंड और घुमारवीं में पांच पांच और जिला के आयुर्वेद अस्पतालों में दो-दो बैड की व्यवस्था है। यही नहीं, जवाहर नवोदय विद्यालय कोठीपुरा के साथ ही शिवा इंजीनियरिंग कालेज, मिनर्वा सीनियर सेकेंडरी पब्लिक स्कूल के अलावा नयनादेवी में सरायं, जिला के होटलों में भी बेड की उपयुक्त व्यवस्था को लेकर प्रशासन प्रयासरत है। वहीं, 108 आपात सेवा भी उपलब्ध हैं और चौबीस घंटे सर्विस कर रही हैं। जिलाधीश के अनुसार लॉकडाउन में मंदिर, मस्जिद, राजनीतिक और सामाजिक कार्यक्रमों पर रोक रहेगी। यदि कहीं भी आदेशों का उल्लंघन हुआ तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस प्रकार से जनता कर्फ्यू सफल रहा उसी प्रकार इस महामारी से बचने के लिए लोगों को हरसंभव सहयोग करना होगा। इस मौके पर एसपी दिवाकर शर्मा, एडीएम विनय धीमान, एसीटूडीसी सिद्धार्थ आचार्य, सीएमओ डा. प्रकाश दरोच, एमओएच डा. परविंद्र सिंह के साथ ही खाद्य आपूर्ति विभाग के जिला नियंत्रक प्रताप चौहान उपस्थित रहे।

अब शिफ्टों में काम करेंगे कर्मचारी

जिलाधीश ने बताया कि सरकारी कर्मचारी शिफ्टों में ड्यूटी करेंगे। इस बाबत शेड्यूल बनाया गया है। इन कर्मचारियों का ऑफ होगा वे हैडक्वार्टर नहीं छोड़ पाएंगे। आपात स्थिति में कभी भी उन्हें बुलाया जा सकता है। इस दौरान किसी को अवकाश नहीं दिया जाएगा। फिर भी यदि किसी प्रकार की कोई समस्या पेश आती है तो जिला अस्पताल के मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट के आधार पर ही अनुमति दी जाएगी।