Thursday, April 18, 2019 07:17 PM

फ्लावरिंग अच्छी…मौसम साथ देे तो बंपर फसल

 ठियोग—निचले क्षेत्रों में चल रही सबे की फ्लावरिंग इन दिनों चरम पर है ऐसे में मौसम यदि ठीक ठाक रहा तो इस बार सेब बागबानों की चांदी होने की उम्मीदें लगाई जा रही है। अभी हाल ही में हुई हल्की बारिश से इतना अधिक असर फ्लावरिंग पर देखने को नहीं मिला लेकिन आने वाले दिनों में दिन मौसम यदि फिर से करवट लेता है तो बागबानों की मुश्किलें बढ़ सकती है। क्योंकि फ्लावरिंग पर बारिश होने से तापमान गिरने के कारण सेब की सैटिंग पर असर पड़ सकता है। लेकिन अभी बागबानों के लिए मौसम बिल्कुल अनुकूल चल रहा है। बागबानी विशेषज्ञ की मानें तो फ्लावरिंग के दौरान तापमान यदि सामान्य स्थिति में रहता है तो सेब की अच्छी सैंटिंग होने की उम्मीद रहती है लेकिन तापमान में गिरावट आने पर फूल में परागण प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाती जिससे कि सेब की सैटिंग पर असर पड़ता है। निचले क्षेत्रांे भी सेब की अच्छी सैटिंग होने की सूचनाएं मिल रही है।  अच्छी सेटिंग के लिए तापमान 15 डिग्री से अधिक होना चाहिए रात में मौसम साफ  रहता है तो यह भी हानिकारक माना जाता है क्योंकि रात के समय कोहरा गिरने से तापमान बेहद निचे गिर जाता है और इससे पौधों की पंखुडि़यां सकुड़ जाती है। तापमान इस दौरान सामान्य स्थिति में रहे तो तभी अच्छी पैदावार होने की उम्मीद रहती है। इन दिनों निचले  इलाकों में सेब की फ्लावरिंग व सैटिंग हो चुकी है और देखने में आ रहा है कि सेब की इन क्षेत्रों में अच्छी फसल है। जबकि इसके अलावा स्टोन फू्रट में भी सैटिंग इस बार अच्छी हुई है। ठियोग सहित कोटखाई आदि क्षेत्रों में सेब इलाकोें में बागीचे इन दिनों फूलों से लद गए हैं।

ठियोग में पकड़े चिट्टे संग दो गिरफ्तार

ठियोग पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए पिछले दिनों चिटटे के दो तस्करों को ठियोग पुलिस के थाने के सामने नाकेबंदी के दौरान गिरफ्तार किया है। जबकि हाल ही में इनका एक अन्य सहयोगी भी ठियोग पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। जोकि संधू का रहने वाला है। इनके पास से 628 ग्राम चिटटा बरामद किया गया है। दोनों युवकों में एक ठियोग के केलवी पंचायत का है दूसरा मंडी का रहने वाला है। हिमाचल में चिटटे की यह सबसे बड़ी खेप बताई जा रही है।

सिविल अस्पताल में ब्लड बैंक की मांग को लेकर धरना

ठियोग संघर्ष समिति द्वारा पिछले दिनों ठियोग में ब्लड बैंक की मांग को लेकर 11 अप्रैल को धरना-प्रर्दशन किया गया है। इस दौरान समिति के कार्यकर्ताओं ने ठियोग के बजाए कोटखाई में ट्रामा सेंटर खोलने का भी विरोध किया। इनका कहना था कि ठियोग ट्रामा संेटर के लिए उपयुक्त स्थान था लेकिन इसे कोटखाई में खोला जा रहा है। जबकि ठियोग सिविल अस्पताल में चल रहे खाली पदों तथा सुविधाओं के अभाव को लेकर भी धरना-प्रर्दशन किया गया, जिसमें सरकार से मांग की गई कि ठियोग अस्पताल में उपकरणों की कमी के कारण लोग परेशान हंै।

 ठियोग में राजनीतिक गतिविधियां शुरू

लोकसभा चुनाव को लेकर ठियोग में राजनीतिक सरगर्मियां भी शुरू हो चुकी है। ऐसे में कांग्रेस व भाजपा के अलावा ठियोग में सीपीआईएम के सम्मेलन शुरू हो चुके हैं। जबकि आने वाले दिनों में चुनाव प्रचार के और जोर पकड़ने की उम्मीदें लगाई जा रही है। ठियोग में भाजपा के नेता पूर्व विधायक राकेश वर्मा के दोबारा से राजनीति में सक्रिय होने से राजनीतिक चहल-पहल और बढ़ गई है। कांग्रेस भी पोटेटों ग्राउंड में प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप राठौर की एक सभा करवा चुकी है। जबकि सीपीआईएम के नेता व ठियोग के विधायक राकेश सिंघा भी ठियोग में राजनितिक गतिविधियों में सक्रिय हो गए है।

नवरात्र पर मंदिरों में उमड़ी आस्था

ठियोग के विभिन्न मंदिरों में नवरात्रों को लेकर भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। लोग अपने-अपने ईष्ट के मंदिरों में पूजा अर्चना कर रहे हैं। ठियोग के विभिन्न मंदिरों में कलाहर कामाक्षा माता मंदिर के अलावा गुठाण में डोम देवता, शड़ी के महेश्वरी मंदिर, कोट काली मंदिर धरेच की दुर्गा माता मंदिर, टियाली मंदिर जयेश्वरी माता मंदिर, चिखड़ेश्वर मंदिर चिखड़ के अलावा कई अन्य मंदिरों में लोगों का सुबह से शाम तक आना-जाना लगा हुआ है। जबकि इसके अलावा माइपुल भूतेश्वर मंदिर में इन दिनों भागवत भी चल रहा है। नवरात्र को लेकर भक्तों की भीड़ के लिए मंदिरों में भंडारे व हर रोज पूजा-अर्चना की जा रही है।