Monday, September 23, 2019 01:45 AM

बंद सड़कों पर फंसी छह बसें

बिलासपुर -भारी बारिश के बाद बंद पड़ी जिला की पांच सड़कों में अभी भी निगम की छह बसें फंसी हुई हैं। इसके साथ ही निगम के 35 बस रूट पूरी तरह से ठप है। वहीं, बीते तीन दिनों से निगम के रूट प्रभावित रहने से अब तक 30 लाख रुपए की चपत लग चुकी है। क्षेत्रीय प्रबंधक बिलासपुर पवन शर्मा ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि निगम की दो बसें ऋषिकेष में, एक बस ज्यूरीपतन, एक बस यूंखर में, एक लौहरघाट में व एक बस लौहारड़ा में फंसी हुई है। आरएम ने बताया बिलासपुर-स्वारघाट-कीरतपुर सड़क मार्ग पर लैंडस्लाइड के खतरे के चलते इस ओर जाने वाली सभी बसों को वाया भोटा भेजा जा रहा है। बुधवार को भी बसों को स्वारघाट की बजाय भोटा मार्ग से भेजा गया है। बुकिंग काउंटर पर सुबह से ही चंडीगढ़ जाने वाले यात्रियों की भीड़ देखने को मिल रही है। हालांकि निगम ने बसें तो चंडीगढ़ रवाना की, लेकिन यात्रियों को काफी लंबा सफर तय करना पड़ा। चंडीगढ़ व दिल्ली जाने के लिए यात्रियों को निगम द्वारा आंशिक किराए में की गई बढ़ौतरी के तहत टिकट लेकर सफर करना पड़ा। हिमाचल पथ परिवहन निगम एचआरटीसी बिलासपुर को किराए के तौर पर तीसरे दिन में दस लाख रुपए का भारी नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि बिलासपुर डिपो में रोजाना ऑन डिमांड पर स्पेशल बसें बाहरी राज्यों के लिए भेजी जा रही है। जैसे-जैसे बसों की डिमांड बढ़ेगी, उसी हिसाब से बसें चलाई जा रही है। अधिकतर बसें पैक होने से लोगों को मायूसी झेलनी पड़ रही है। इस बीच बसों में खड़े होने तक को जगह न मिलने पर कुछ एक टैक्सियों का सहारा लेना पड़ रहा है। आरएम बिलासपुर पवन शर्मा ने बस चालकों के लिए एडवायजरी जारी की है। इसमें कहा गया है कि वे किसी प्रकार का खतरा मोल न लें।