Friday, December 06, 2019 09:44 PM

बच्चों में सीखने की ललक जगाएं

हमीरपुर - डीएवी पब्लिक स्कूल हमीरपुर के महात्मा आनंद स्वामी सभागार में आर्य प्रादेशिक प्रतिनिधि उपसभा हिमाचल प्रदेश एवं आर्य युवा समाज के संयुक्त तत्त्वावधान में डीएवी विद्यालयों के शिक्षकों के लिए एकदिवसीय नैतिक शिक्षा प्रशिक्षण का आयोजन शनिवार को किया गया।  इसमें पद्मश्री आर्यरतन डा. पूनम सूरी, प्रधान आर्य प्रादेशिक प्रतिनिधि सभा एवं डीएवी कालेज प्रबंधक समिति नई दिल्ली मुख्य उद्बोधन दिया। उनके साथ  उनकी धर्मपत्नी  मनी  सूरी  भी उपस्थित  रही। कार्यक्रम में  जे काकडि़या प्रधान आर्य प्रादेशिक प्रतिनिधि उपसभा हिमाचल प्रदेश, कामना बेरी सचिव आर्य प्रादेशिक प्रतिनिधि उपसभा हिमाचल प्रदेश, पी सोफ्त, मैनेजर के भटनागर, लोकल एलएमसी चेयरमैन अनंत स्वरूप,  प्रिंसीपल डीएवी  मंडी  के एस गुलेरिया, आर्य माता  सत्यप्रिया  यति एवं विश्वास शमार् प्रिंसीपल डीएवी पब्लिक स्कूल हमीरपुर  और  आर्य जगत  के प्रसिद्ध  विद्वान  और हिमाचल के  विभिन्न  डीएवी के  प्रधानाचार्य  और अध्यापक  सम्मलित हुए। इस प्रशिक्षण शिविर में हिमाचल के लगभग  20 डीएवी पब्लिक  विद्यालयों के  प्रधानाचार्य और अध्यापकों नें भाग लिया। कार्यक्रम में महात्मा चैतन्य मुनि ने अपने आशीर्वचन दिए। इनके साथ विक्रम विवेकी और वीरेंद्र कुमार अलंकार ने वैदिक संस्कृति में अध्यापक, विद्यार्थी एवं शिक्षक के संबंधों पर चर्चा की। कार्यक्रम में पदम पूनम सूरी द्वारा रक्तदान शिविर का उद्घाटन किया गया, जिसमें विभिन्न डीएवी से आए अध्यापकों ने रक्तदान किया। कार्यक्रम में सूरी द्वारा पहचान संस्था के बच्चों को खेलकूद का सामान भेंट किया गया। अपने वक्तव्य में पदम डाक्टर पूनम सूरी ने अध्यापकों को नैतिक शिक्षा का पाठ पूनम की पाठशाला में पढ़ाया। उन्होंने कहा कि शिक्षक अपनी बुद्धि ठीक रखें और अपने बच्चों की जिज्ञासा को बढ़ाएं।  इस अवसर पर डीएवी प्रधानाचार्य विश्वास शर्मा ने कहा कि डीएवी संस्था अपने बच्चों में नैतिकता का गुण पैदा करने के लिए कृतसंकल्प है।