Monday, August 19, 2019 03:08 PM

बड़बोले नेताओं पर लगाम से खुश हुआ सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली -सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव प्रचार अभियान के दौरान नफरत भरे भाषण देने के लिए यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, बसपा सुप्रीमो मायावती और अन्य नेताओं के खिलाफ चुनाव आयोग की कार्रवाई पर मंगलवार को संतोष व्यक्त किया। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस संजीव खन्ना की बैंच ने बसपा चीफ मायावती के चुनाव प्रचार करने पर चुनाव आयोग द्वारा लगाए 48 घंटे के प्रतिबंध को चुनौती देने वाली याचिका पर विचार करने से भी इनकार कर दिया। बैंच ने मायावती के वकील से कहा कि चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ अलग से अपील दायर करें। चुनाव आयोग की कार्रवाई का संज्ञान लेते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ऐसा लगता है कि चुनाव आयोग जाग गया है और उसने विभिन्न नेताओं को अलग-अलग समय तक चुनाव प्रचार करने से रोक दिया है। बैंच ने स्पष्ट किया कि अभी इसमें आगे किसी और आदेश की जरूरत नहीं है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद चुनाव आयोग ने सोमवार को आदित्यनाथ, मायावती, आजम खान और केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी के खिलाफ कार्रवाई की। बैंच संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के शारजाह स्थित प्रवासी भारतीय योग शिक्षक हरप्रीत मनसुखानी की जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही है। याचिका में चुनाव आयोग को उन राजनीतिक दलों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश देने की मांग की गई है, जिनके नेता आम चुनावों के लिए मीडिया में जाति एवं धर्म के आधार पर टिप्पणियां करते हैं।