Sunday, July 05, 2020 06:24 AM

बड़सर में पानी की बेकद्री

महारल बाजार में पाइप टूटने से सड़क के बीचोंबीच बह रहा पानी, लोगों में विभाग के खिलाफ पनपा रोष

बड़सर-उपमंडल बड़सर के कई इलाकों में एक तरफ जहां लोग पेयजल किल्लत का सामना कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ सैकड़ों लीटर पानी सड़कों पर व्यर्थ बह रहा है। बूंद-बूंद बचाने की नसीहत देने वाला विभाग पेयजल बर्बादी पर ढुलमुल रवैया अपना रहा है। इसके अलावा पेयजल कनेक्शन से टुल्लू पंप का प्रयोग भी आम लोगों के लिए परेशानियों का कारण बना है। इलाके में कई लोगों द्वारा गुपचुप तरीके से टुल्लू लगाए गए हैं, लेकिन उन्हें विभाग की कार्रवाई का कोई डर नहीं है। लोगों का आरोप है कि विभागीय कर्मचारियों को जानकारी होने के बावजूद भी रसूखदारों पर मात्र दिखावे के लिए कार्रवाई होती है। ग्राम पंचायत कठियाना के गांव गोड़ी टिक्कर में लोग पेयजल के लिए तरस रहे हैं। हालात ये हैं कि सार्वजनिक नल से आ रहे नाममात्र पानी को समेटने के लिए भी लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। ऐसे में कोरोना काल के दौर में भी लोग सार्वजनिक नलों का प्रयोग कर जोखिम उठाने पर मजबूर हैं। महारल बाजार के बीचोंबीच सड़क किनारे विभाग द्वारा खुले में बिछाई गई पाइप लाइन टूटने से सैकड़ों लीटर पानी व्यर्थ बह गया। कायदे से पाइपलाइन को खुदाई करके मिट्टी के नीचे दबाया जाना होता है, लेकिन कई जगहों पर पाइपें खुले में बिछी दिखाई देती हैं। मई महीने की भीषण गर्मी में एक तरफ जहां पेयजल की ज्यादा जरूरत पड़ती है। वहीं दूसरी तरफ  आईपीएच विभाग के दावे धरे के धरे रह जाते हैं। ग्रामीणों ने आईपीएच विभाग के आलाधिकारियों से इस संकट को दूर करने की मांग की है। वहीं  इस संदर्भ में अधिशाषी अभियंता जितेंद्र गर्ग का कहना है कि आपके माध्यम से समस्या ध्यान में आई है। इसका शीघ्र समाधान किया जाएगा।