Tuesday, November 19, 2019 03:06 AM

बडे़ शहरों में हो किन्नौर जैसा महोत्सव

रिकांगपिओ में राज्य स्तरीय कार्यक्रम के दौरान बोले विधानसभा अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल, विजेताआें को ट्राफी देकर किया सम्मानित

रिकांगपिओ -किन्नौर जिला के रिकांगपिओ में राज्य स्तरीय चार दिवसीय किन्नौर महोत्सव का समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए हिमाचल प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष डा. राजीब बिंदल ने कहा कि इस उत्सव को और अधिक व्यवसायिक रूप दिया जाना चाहिए तथा यहां के उत्पादों तथा संस्कृति पर आधारित एक इसी तरह का उत्सव दिल्ली व देश के अन्य व्यवसायिक दृष्टि से महत्वपूर्ण शहरों में किया जाना चाहिए जिससे किन्नौर जिला के मेहनतकश लोगों को एक उच्च स्तर पर अपने उत्पादों के विक्रय के लिए मंच उपलब्ध होगा और इन उत्पादों का देश विदेश में प्रचार प्रसार सुनिश्चित हो सकेगा। इससे जिला कि समृद्ध संस्कृति व परंपराओं का भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रचार प्रसार सुनिश्चित होगा । उन्होंने कहा कि यहां पर तैयार किए गए टोपी, शॉल व अन्य ऊनी वस्त्रों की न केवल देश में ही मांग है परंतु अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में इसकी व्यापक मांग है। उन्होंने कहा कि मेले व त्योहार प्रदेश की संस्कृति का अभिन्न हिस्सा रहें हैं । ये उत्सव न केवल धार्मिक, सांस्कृतिक व पारंपरिक दृष्टि से महत्त्वपूर्ण है बल्कि लोगों को एक सूत्र में पिरोने का कार्य भी करते है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार मेलो व त्योहारों को प्रोत्साहन दे रही है, ताकि प्रदेश की समृद्ध संस्कृति का संरक्षण सुनिश्चित बनाया जा सके । इसी कडी में राज्य सरकार द्वारा प्रदेश भर में अनेकों मेलो व त्यौहारो के आयोजन के लिए सहायता प्रदान की जा रही है। प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों को अपनी बहुमूल्य सांस्कृतिक धरोहर को संजोए रखने का गौरव प्राप्त है। उन्होंने कहा कि किन्नौर भगवान शिव की नगरी है और यहां के लोग किन्नर कैलाश में बसे है। उन्होंने कहा कि मुझे यह जानकर प्रसन्नता हो रही है कि जिला के लोग आज के बदलते परिवेश के वाबजूद अपनी लोक संस्कृति व परंपराओ का उसी प्रकार निवर्हन कर रहे है जिस प्रकार वे सदियों से करते आ रहे है। हिमाचल प्रदेश वन विकास निगम के उपाध्यक्ष सूरत नेगी ने अध्यक्ष, हिमाचल प्रदेश विधान सभा डा. राजीव बिंदल का राज्य स्तरीय किन्नौर महोत्सव के समापन समारोह में प्रधारने पर उनका धन्यवाद व स्वागत किया। इससे पूर्व उपायुक्त एवं अध्यक्ष राज्य स्तरीय किन्नौर महोत्सव किन्नौर गोपाल चंद ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि इस चार दिवसीय उत्सव का शौभा बढ़ाने के लिए मेला कमेटी द्वारा एक महा नाटी का आयोजन किया गया जिसमें किन्नौर के सैकड़ों महिलाओ ने पारंपरिक वेशभूषा में भाग लिया। उन्होंने इस चार दिवसीय महोत्सव को सफल बनाने के लिए सभी अधिकारियों कर्मचारियों, व्यापार मंडल, स्थानीय पंचायत प्रतिनिधियों, पुलिस,  होमगार्डस व मेला कमेटी के सदस्यों का धन्यवाद किया। बिंदल ने चार दिवसीय किन्नौर महोत्सव के दौरान आयोजित लोक नृत्य, लोक गीत,  वाद्य यंत्र व शहनाई प्रतियोगिता व उतर क्षेत्र बालीवाल प्रतियोगिता के विजेताओ को पुरस्कार व ट्रॉफी दे कर सम्मानित किया । लोक नृत्य प्रतियोगिता में शेशेरिंग नागस सास्कृतिक क्लब पंगी प्रथम, महादेव खेल एवं सांस्कृतिक क्लब पोवारी द्वितीय व किन्नौर सांस्कृतिक कला मंच रिकांगपिओ ने तृतीय स्थान प्राप्त किया, लोक गीत प्रतियोगिता में रतना देवी शेशेरिंग नागस सांस्कृतिक क्लव पंगी ने पहला, प्रदीप कुमार दूनी ने दूसरा व सुनीता महादेव खेल एवं सांस्कृतिक कल्ब पोवारी के तीसरा स्थाप प्राप्त किया। वाद्य यंत्र प्रतियोगिता में शेशेरिंग क्लब पंगी प्रथम, महादेव क्लब पोवारी द्वितीय व सोनी स्टार खेल सांस्कृतिक कल्ब उरनी तृतीय रही। शहनाई प्रतियोगिता में शेशेरिंग नागस पंगी प्रथम व महादेव सांस्कृतिक क्लब पोवारी द्वितीय रहे । इस अवसर पर अध्यक्ष, हिमाचल प्रदेश विधान सभा ने राज्य स्तरीय किन्नौर महोत्सव के अवसर पर छपी स्मारिका का भी निमोचन किया गया तथा विभिन्न विभागों व संस्थाओ द्वारा लगाए गये प्रदर्शियों का अवलोकन भी किया। सहायक आयुक्त एवं सचिव किन्नौर महोत्सव समिति हर्ष अमरेंद्र सिहं नेगी ने सभी गणमन्य व्यक्तियों का महोत्सव में पधारने के लिए आभार व्यक्त किया।