बथुआ के पौष्टिक गुण

बथुआ सर्दियों में खाया जाने वाला आम साग है। इसमें बहुत सारे विटामिन्स, कैल्शियम, फास्फोरस और पोटाशियम होता है। कई बीमारियों को दूर करने के लिए भी बथुए का प्रयोग किया जाता है। बथुआ एक ऐसी सब्जी है, जिसके गुणों से ज्यादातर लोग अपरिचित हैं। यह छोटा सा दिखने वाला हरा-भरा पौधा काफी फायदेमंद है, सर्दियों में इसका सेवन कई बीमारियों को दूर रखने में मदद करता है...

बथुए में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है, बथुआ न सिर्फ पाचनशक्ति बढ़ाता है, बल्कि अन्य कई बीमारियों से भी छुटकारा दिलाता है। बथुए को हमेशा एक लिमिट में खाना चाहिए क्योंकि इसमें ऑक्जेलिक एसिड का लेवल बहुत ज्यादा होता है। इसे ज्यादा खाने से डायरिया भी हो सकता है। बालों का सही कलर बनाए रखने में बथुआ आंवले से कम गुणकारी नहीं है। इसमें विटामिन और खनिज तत्त्वों की मात्रा आंवले से ज्यादा होती है। आइए जानते हैं बथुए के सेवन के फायदे।

दांतों की समस्या से बचाएः बथुए की पत्तियों को कच्चा चबाने से सांस की बदबू, पायरिया और दांतों से जुड़ी अन्य समस्याओं में फायदा होता है। दांतों के दर्द में भी बथुआ लाभकारी है।

कब्ज करे दूरः कब्ज से राहत दिलाने में बथुआ बेहद कारगर है।  लकवा, गैस की समस्या में भी यह काफी फायदेमंद है।

बढ़ाता है पाचन शक्तिः भूख में कमी आना, खाना देर से पचना, खट्टी डकारें आना जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के लिए भी बथुआ खाना फायदेमंद है।

पीलिया में फायदेमंदः बथुआ और गिलोय का रस लेकर एक सीमित मात्रा में दोनों को मिलाएं, फिर इस मिश्रण को 25-30 ग्राम रोज दिन में दो बार लेने से फायदा होगा।

खून साफ करे : बथुए को 4-5 नीम की पत्तियों के रस के साथ खाया जाए, तो खून अंदर से शुद्ध हो जाता है। साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक रहता है।

Related Stories: