Wednesday, December 19, 2018 01:19 PM

बरसात ने डुबोए 1994 करोड़

हिमाचल का दौरा कर लौटी केंद्रीय टीम ने सौंपी रिपोर्ट, बेरहम सीजन ने लील लीं 343 जानें

शिमला -बरसात की चपेट में आने से कुल 343 लोग अकाल मौत का ग्रास बने हैं। इसके अलावा बेरहम बरसात ने हिमाचल प्रदेश को दो हजार करोड़ से ज्यादा की चपत लगाई है। सबसे ज्यादा प्रदेश की सड़कों और पुलों को 900 करोड़ की क्षति पहुंची है। हिमाचल का दौरा कर लौटे केंद्रीय दल ने प्रदेश के नुकसान का जायजा लेने के बाद यह रिपोर्ट केंद्र को भेजी है। इस आधार पर राज्य सरकार ने इस वर्ष मानसून के दौरान प्रदेश को हुए नुकसान व क्षति की रिपोर्ट अतिरिक्त सूचना सहित अंतर मंत्रालय केंद्रीय टीम को भारत सरकार से वित्तीय सहायता की संस्तुति के लिए प्रस्तुत की है। अतिरिक्त मुख्य सचिव राजस्व मनीषा नंदा ने बताया कि राज्य सरकार ने अन्तर मंत्रालय टीम को सूचित किया है कि राज्य को इस वर्ष बरसात के दौरान 1994 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि लोक निर्माण विभाग को सड़कों तथा पुलों की क्षति का प्रमुख रूप से नुकसान पहुंचा है। इस पर कुल क्षति 881.24 करोड़ रुपए की आंकी गई है। इसके अलावा आवासीय क्षेत्र के लिए 43.03 करोड़, सामुदायिक परिसंपत्तियों (शहरी विकास) को 34.46 करोड़ सहित मवेशियों का 87 लाख का नुकसान हुआ, जबकि अनुग्रह राशि पर 13.72 करोड़ रुपये व्यय किए गए। भारी बरसात से बाढ़, भू-स्खलन, बादल फटने तथा सड़क दुर्घटनाओं में 343 लोगों ने अपनी जानें गंवाई। मनीषा नंदा ने कहा कि अंतर मंत्रालय केन्द्रीय दल ने राज्य के प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया और राज्य सरकार को बरसात के दौरान क्षति और नुकसान के संबंध में अतिरिक्त सूचना प्रस्तुत करने को कहा था। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी अंतर मंत्रालय केंद्रीय टीम के साथ मंडी प्रवास के दौरान बैठक की और राज्य को केंद्र सरकार से अधिक से अधिक वित्तीय सहायता प्रदान करने की संस्तुति करने का आग्रह किया और बताया कि बरसात के दौरान राज्य को भारी नुकसान पहुंचा है, जो पिछले दस वर्षों में सबसे अधिक है।

किसे, कितना नुकसान

सड़क-पुल            881.24 करोड़

कृषि       151.98 करोड़

बागबानी  441.83 करोड़

मत्स्य      6.76 करोड़

आईपीएच 430.04 करोड़

बिजली बोर्ड53.50 करोड़

पशुपालन  10 लाख

शिक्षा      11.77 करोड़

जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत  मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन!