Monday, June 01, 2020 12:51 AM

बल्ह घाटी के सपूत को अंतिम विदाई 

नेरचौक-उपमंडल बल्ह के नागचला से संबंध रखने वाले एक सैनिक का राजस्थान के जयपुर में आकसमिक निधन हो गया। भारतीय सेना में सेकेंड ग्रनेडियर रेजिमेंट में बतौर सुबेदार देश की सेवा में जुटे विजय कुमार जयपुर में सुबह के समय पीटी कर रहे थे, तो अचानक उनकी छाती में दर्द हुआ और वह मैदान में गिर पड़े, उन्हें एंबुलेंस में डाल अस्पताल पहुंचाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। चिकित्सकों के अनुसार सुबेदार की मौत हृदय गति रुकने के कारण हुई है। 47 वर्षीय विजय कुमार के पार्थिव शरीर को शुक्रवार को उनके गृह क्षेत्र नागचला लाया गया तथा पूरे सैनिक सम्मान के साथ उनका दाह संस्कार किया गया, जहां परिजनों के साथ-साथ उनकी प्लाटून से आए सैनिकों तथा पालमपुर से आए सेकेंड ग्रेनेडियर के जवानों ने उन्हें सम्मान के साथ सलामी दी। 14 वर्षीय बेटे आरव ने उन्हें मुखाग्नि दी। 47 वर्षीय सुबेदार विजय कुमार अपने पीछे बुजुर्ग माता लीला देवी, पिता खेम चंद व पत्नी हर्षा तथा 14 वर्षीय पुत्र आरव ठाकुर को छोड़ गए हैं। इस दुखद घटना पर पूर्व आबकारी एवं कराधान मंत्री प्रकाश चौधरी, पूर्व जिला मंडी कांग्रेस अध्यक्ष शशि शर्मा ने शोक व्यक्त किया है तथा भगवान से परिवार को दुख एवं शक्ति देने तथा दिवंगत आत्मा को अपने श्री चरणों में स्थान देने की प्रार्थना की है। उद्धर, डा. आशीष शर्मा, उपमंडलधिकारी बल्ह ने कहा कि बल्ह के रत्ती क्षेत्र में कंटेनमेंट जोन होने के कारण वह अति व्यस्त थे। इस कारण अंतिम संस्कार के समय नहीं पहुंच पाए।

प्रशासन से अंतिम संस्कार में नहीं पहुंचा कोई

सूबेदार विजय कुमार के भाई नरेश कुमार ने बताया कि अंतिम संस्कार में सरकार व प्रशासन की तरफ  से कोई भी नुमाइंदा नहीं पहुंचा। उन्होंने दुख जाहिर करते हुए कहा कि ऐसे तो सरकार फौजियों के नाम पर बड़ी.बड़ी बातें करती नहीं थकती।  लेकिन धरातल पर सच्चाई कुछ और ही है। उन्होंने खेद व्यक्त किया है कि सैनिकों के साथ इस तरह का बताज़्व करना शोभनीय नहीं है।