Saturday, September 21, 2019 04:23 PM

बागबानों के लिए चैक पोस्ट टैक्स फ्री

चैक पोस्ट पर किसानों-बागबानों से नहीं लिया जा रहा है शुल्क, वसूली पर एपीएमसी को तुरंत करें शिकायत शिमला -एपीएमसी चैक पोस्ट पर किसानों व बागबानों से किसी भी तरह का शुल्क नहीं वसूला जा रहा है। मंडी समिति की चैक पोस्ट पर व्यापारियों द्वारा किए जा रहे व्यापार से संबधित फार्म चैक किए जा रहे हैं। दोषी व्यापारियों को जुर्माना लगाकर भविष्य में कार्य सुधार के लिए हिदायतें दी जा रही हैं। चैक पोस्ट पर किसानों, बागबानों से कोई शुल्क नहीं लिया जाता हैं और चैक पोस्ट पर अराइवल, डिपारचर, डिस्पैच की सूचना भी तैयार की जाती है। चैक पोस्ट पर मंडी समिति ने बागबानों को सूचना पट्ट पर स्थायी निवासी, जमीन से संबंधित कागजात प्रस्तुत करने के भी सूचना बोर्ड लगा रखे हैं, ताकि बागबानों के साथ किसी भी तरह की धोेखाधडी न हो सके। एपीएमसी शिमला किन्नौर के चेयरमैन नरेश शर्मा ने बताया कि पूर्व में जब दो वर्ष पहले चैक पोस्ट को शिमला से हटाकर राज्य की सीमा पर परवाणु के चक्की मोड़ पर यह शुल्क एकत्र करने का कार्य किया था तो वहां पर यह आय साल 2017-18 में मात्र 44 लाख रुपए ही थी। उसके उपरांत जब यह चैक पोस्ट फिर से शिमला में स्थापित की गई तो मंडी समिति शिमला ने वर्ष 2018-19 में 2.54 करोड़ रुपए का राजस्व एकत्रित किया तथा वर्ष 2019-20 में यह आय अब तक 2,34,99,535 एकत्र कर ली गई है तथा यहां पर शुल्क मात्र व्यापारियों से लिया जाता है। शुल्क मांगने पर तुरंत दर्ज करें शिकायत यदि किसी किसान व बागबान से कोई अधिकारी शुल्क मांगता है तो अध्यक्ष मंडी समिति के मोबाइल तथा सचिव मंडी समिति के मोबाइल नंबर पर शिकायत कर सकते हैं। नरेश शर्मा ने बताया कि एपीएमसी ने इसकी सूचना चैक पोस्ट पर भी लगाई है। भ्रम फैलाने वालों से रहें दूर एपीएमसी ने किसानों व बागबानों से आग्रह किया है कि भ्रांति फैलाने वाले बयानों से भ्रमित न हों तथा चैक पोस्ट पर यातायात सुचारू बनाए रखने के लिए यातायात पुलिस/ सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। किसानोें व बागबानों से किसी भी तरह का शुल्क नहीं लिया जा रहा है।