Monday, September 23, 2019 01:46 AM

बारिश के कहर से ठियोग की सड़कें बंद

ठियोग -पिछले दो तीन दिनों से हुई भारी बारिष के कारण ठियोग में सड़कों को सबसे ज्यादा नुकसान हो रहा है। पीडब्ल्यूडी को ठियोग में 60 लाख का नुकसान हो चुका है। सोमवार को भी करीब दस मुख्य सड़कें यातायात के लिए बंद थी, जिन्हें खोलने के लिए विभाग ने मशीने लगा रखी है। इसके अलावा ठियोग में पानी की योजनाओं को भी बहुद अधिक नुकसान हुआ है। गिरी नदी में गाद भरने के कारण पानी लिफट नहीं हो रहा है। जबकि इसके अलावा ठियोग में सड़कों के टूटने से बागबानों को सेब तुड़ान भी बंद करना पड़ा है। इससे मंडियों में सोमवार को अराईल भी कम देखने को मिली है। इसके अलावा शनिवार रात को हुई भारी बारिश के कारण ठियोग के छोट़े-बड़े नदी नालों में बाढ़ जैसी स्थिति बनने से कई लोगों के खेत पानी के बहाव में कट गए हैं। जबकि इसके अलावा जैस में एक मकान गिरने से एक महिला को हल्की चोटें आई हैं। इन दिनों सेब सीजन पीक पर चल रहा है, लेकिन क्षेत्र की अधिकतर सड़कें यातायात के लिए पूरी तरह से बहाल न होने के कारण बागबानों को सेब को मंडियों तक पुहंचाने में बेहद परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कुछ पंचायत प्रतिनिधियों ने सरकार से सम्पर्क सड़क सड़कांे में सुधार के लिए अलग से धन का प्रावधान किए जाने की भी मांग की थी लेकिन अभी तक ठियोग ब्लाक को सड़कों के सुधार के लिए न तो विभाग को कोई राशि दी गई है और न ही पंचायतों में सपेशल फंड सरकार की ओर से दिया गया है। बारिश से ग्रामीण क्षेत्रों में सम्पर्क सड़कों को सबसे अधिक नुकसान हो रहा है। जिससे कि यातायात पर असर पड़ा है। ग्रामीण क्षेत्रों में इस कारण बसों की आवाजाही सहित वाहनों को ऐसी सड़कों पर चलाना मुश्किल हो रहा है। इन दिनों मध्यम उंचाई वाले क्षेत्रों में सेब सीजन पीक पर है और ऐसे में अपने माल को सड़क तक पहुंचाने में किसानों बागबानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सम्पर्क सड़कों के अलावा ठियोग हाटकोटी सड़क की बदहाल के कारण बागबानों को बेहद परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शनिवार को भी निहारी के पास सड़क बंद होने के कारण यात्रियों को कई घ्ंाटों वाहनों में बैठकर गुजारने पड़े। लगातार बारिष के कारण सड़क दलदल में बदल गई है और रोहड़ू से ठियोग पहुंचने में काफी समय लग रहा है। बीच-बीच में कई जगह चल रही कटिंग के कारण ये समस्या पैदा हुई है। इन खराब हुई सड़कों को ठीक करने की मांग किसानों बागबानों ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों से भी मंाग की है। बारिश के कारण ठियोग के अधिकतर सम्पर्क सड़कें दलदल में तबदील हो गई है। ठियोग विकास खंड के तहत आने वाली संधू बासामाहोग, लाफूघाटी पटीनल, बिशड़ी, घूंड शलौआ, रहीघाट शड़याणा, धमांदरी फागू, चियोग, हुल्ली देवठी खार, जैस नयागांव, सरीवन नागोधार, कमाह, ब्यौण सांबर कलाहर, निवड़ी कड़ेड जैस बलन, चमैच सड़क बारिश के कारण बेहद खराब हो चुकी है। इससे लोगों को भारी परेषानी का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्रेां में बनी अधिकतर सम्पर्क सड़कें पंचायत फंड पर तैयार की गई है।

पीडब्ल्यूडी को 60 लाख का नुकसान

ठियोग में भारी बारिश के कारण विभाग को 60 लाख का नुकसान हो चुका है। पंचायत स्तर पर बनी सड़कों की देखरेख न तो विभाग द्वारा की जा रही है और न ही इसके लिए सरकार से अलग कोई धन दिया गया है। इससे किसानों बागबानों को मंडियों तक पहुंचाने में परेशानी झेलनी पड़ रही है।